Header Ads

ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ११

"ब्रह्मचर्य के १०० लाभ" के भाग 11  में आप का स्वागत है। pehle भाग १भाग २, भाग ३, भाग ४भाग ५ , भाग 6 और भाग 7  va  भाग 8 व  भाग ९   va भाग 10 पढ़ें। 

 ब्रह्मचर्य के 51वा  लाभ : निर्दोष बनने में सहायक

ब्रह्मचर्य आप में ऐसी शक्ति पैदा कर देता है जिस से आप हमेशा के लिए निर्दोष हो जाते हो | आप को भी पता है व मुझे भी पता है के हमेशा यदि आप या मैं चरित्र से कमजोर है तो आपके ऊपर या मेरे ऊपर दोष लगाना बहुत आसन होगा | चरित्रहीन व्यक्ति हमेशा दोषी होता है क्योकि यह कहा भी जाता है 

यदि धन गया तो व कुछ नहीं गया , यदि सेहत गयी तो कुछ गया पर यदि चरित्र चला गया तो हमारा सब कुछ चला गया क्योको जो बदनामी चरित्रहीन व्यक्ति की होती है वः उसे जीते जी मार देती है 

पर जो ब्रह्मचारी होता है व हमेशा परमात्मा को याद करता है उसके चरित्र की रक्षा करनेवाला परमात्मा आप हो जाता है वः तो ब्रह्मज्ञानी हो जाता है व उसकी नजर जहा भी पड़ती है उसे सिर्फ भगवान ही दिखाई देते है इसी नजर की वजह से हर कोई उसका आदर सत्कार करता है वह अपने जीवन में जीते जी सूरज के समान हो जाता है आप ने देखा होगा के सूर्य को जो भी सीधी आंख से देखता है वः कुछ सेकंड से ज्यादा नहीं देख सकता ज्यादा देखेगा तो उसे अँधेरा ही अँधेरा ही अँधेरा दिखाई देगा क्यों 

क्योकि सूरज में तेज बहुत है उसमें गर्मी बहुत है व जो दोष लगता है उसमें सत्य तो होना चाहिए जो उसकी तरफ ऊँगली करके बोल सके 

क्या आप सूरज के ऊपर दोष लगा सकते हो के वह रौशनी व गर्मी नहीं देता सिर्फ रौशनी व गर्मी का ढोंग करता है 

तो सत्य देखते है के कौन सच्चा व कौन जूठा 

यदि आप पुरे दिन सूर्ये को सीधा देख सके तो आप सच्चे नहीं तो आप जूठे 

कुछ ही सेकण्ड्स में आप के आँखों में अँधेरा छा जायेगा व आप सत्य बोलेगे 

के मैं जूठा हु 

सूर्य सचमुच गर्मी व रौशनी देता है 

क्योकि जो भी सूर्य से टकराता है सूर्य उसे सोख लेता है यदि आप की आँखों की रोशनी उससे टकराएगी तो सूर्य उसकी भी रौशनी  सोख लेगा जैसे जमीं में पड़े पानी को सोख लेता है व आपके जीवन में अंधकार ही अंधकार हो जाता है 

इसलिए सिर्फ पूर्ण उगे  सूर्य को आंखे बंद करके नमस्कार किया जाता है 

ऐसे ही जो ब्रह्मचर्य का पालन करता है उसपर वेयाबिचारी व्यक्ति कभी दोष नहीं लगा सकते , क्योकि उसकी शारीरिक शक्ति, मानसकि शक्ति व आत्मिक शक्ति देखते ही हर कोई नतमस्तक हो जाता है 

क्योकि वह बंदा अपने मन में हमेशा सिर्फ सिर्फ सिर्फ भगवान को ही याद करता है 

 ब्रह्मचर्य के 52वा  लाभ : निष्पक्ष बनने में मददगार 

ब्रह्मचर्य आप को निष्पक्ष बनाता है क्योकि आपने अपने साथ पक्षपात नहीं किया 

अपने अपने किसी इंदिर्य पर पक्षपात नहीं किया अपने अपने अंगो से भी पक्षपात नहीं किया 

जिस का जो प्राकृतिक कार्य था वो उससे लिया 

जैसे परमात्मा ने आप को हाथ दिए ताकि आप इससे अच्छे कर सके 

ब्रह्मचारी हमेशा अपने हाथों से नेक कार्य करता है 

वह कभी भी अपने हाथ का उनुचित लाभ नहीं उठाता 

वह कभी भी  अपने हाथो से हस्थमैथुन जैसे गलत काम नहीं करता 

वह अपने हाथो को अपने मन का गुलाम नहीं बनने देता 

उसका मन पर पूर्ण नियंत्रण होता है वह इसे अनैतिक कार्यो में सम्लित होने की आज्ञा नहीं देता 

यह सभी इन्द्रियों को न्याय व इस के प्राकृतिक नियम अनुसार चलाता है | 

जैसे वायु आमिर व गरीब को एक समान लगती है वैसे ही ब्रह्मचर्य का पालन करने वाला मनुष्य सब के साथ निरपक्ष होकर व्यव्हार करता है 

आर्य समाज के नियम में भी आता है सबसे प्रीतिपूर्वक , धर्मअनुसार , यथायोग्य बरतना चाहिए 

पहले आप अपने मन को प्यार से समझाए के कामुक विचारों से सिर्फ सर्वनाश ही होता है 
यदि न समझे तो धरम के अनुसार उसे समझये के तू मेरा मन है तेरा कर्त्वय मेरा कहना मानना है व मैं तुझे आज्ञा देता हु के आज के बाद कामुक विचारों के दोषों को  ख़तम कर दो कभी विचार ही नहीं लेना 
यदि धरम की बात भी न मने तो समझे आप का मन राक्षस हो गया है तो इस के साथ 
यथायोग्य ही व्यवहार करना चाहिए 

अर्थात यह हठी हो गया है के मैं कामुक विचारो को नहीं छोड़ सकता 

तो आप भी हठी हो जाये 

के आज मैं चारो दिशों, सूर्ये, आकाश, पृथिवी, जल व वायु को साक्षी मान कर यह व्रत लेता हु के मैं आज से ही ब्रह्मचर्य का पालन करुगा व जो मेरे रस्ते में आएगा मैं उसका सरवनाश कर दूंगा 

फिर देखे आप अपने दिए वचन के बंधन में आ गए हो व अब अपने ८ मैथुनो का त्याग करना ही है व जब 

आप की दृष्टि परमात्मा को देखेगी 

आप के कान सिर्फ परमात्मा की ही उसतत सुनेगे 

आप की जुबान सिर्फ परमात्मा का ही धन्यवाद करेगी 

आप की लिखाई सिर्फ परमात्मा के गुणगान करेगी 

आप के कदम परमात्मा की तरफ ही जायेगे 

तो आप के मन पर कुछ समय बाद इसके संस्कार पैदा कर देगा 

 व आप का मन भी भगवान को याद करना शुरू कर देगा 

आप परमात्मा को पाने की योजना बनाओगे 

आप परमात्मा को पाने के लिए ध्यान लगाओगे 

यह मन तभी सही रस्ते पर आएगा जब 

प्राकृतिक न्यदिशों जो कभी पक्षपात नहीं करते  जैसे वायु को साक्षी मान कर आप कसम ले तभी आपका जीवन निरपक्ष बनेगा जैसे वायु आमिर और गरीब का पक्ष नहीं लेती यह सबके लिए है जो इस के क्षेत्र में आता है | 

ब्रह्मचर्य के 53वें लाभ : धैर्य रखने में सहायक

ब्रह्मचर्य आपके धैर्य को बढ़ाता है। ब्रह्मचर्य आपकी सहनशक्ति को बढ़ाता है क्योंकि आप शक्ति को बार-बार उठा रहे हैं।

भारोत्तोलक और पॉवरलिफ्टर को देखें। उन्होंने अपनी सहनशीलता शक्ति में वृद्धि की है क्योंकि वे वजन उठाने के सेट और प्रतिनिधि दोहराते हैं। तो, उनकी मांसपेशियों में सहनशक्ति पैदा होती है।

जब आप ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं, तो आप अपनी वीर्य शक्ति के उत्थान के लिए अपने संघर्ष को भी दोहराते हैं। ब्रह्मचर्य के रूप में, आप कभी भी वासनापूर्ण नहीं सोचते। हर वासनापूर्ण हमला जो आप के ऊपर होता है ,उस समय आप केवल भगवान को याद करते हो। मुझे बचाओ भगवान इस वासना के हमले से । यह आपकी रचना है और मैं आपकी रचना के बजाय आपको खोजना चाहता हूं। मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं, आपने मुझे सब कुछ दिया है। अब मेरी और कोई इच्छा नहीं है। मैं केवल आपकी दया के प्रशंसा गीत गाना चाहता हूं। तुमने मुझे हवा दी, तुमने मुझे सूरज दिया। तुमने मुझे खाना दिया। आपने मुझे संकल्प शक्ति दी। मैं दृढ़ संकल्पित हूँ। मैं कभी भी वासनापूर्ण नहीं सोचूंगा क्योंकि मुझे अपने शरीर में अपनी बनाई शक्ति को ऊपर उठाना और बचाना है। यह एक इसका रेपेटेशन ( दुहराव ) होगा। एक पका ब्रह्मचारी अपने करोड़ों रैप करता है और सेट को अपने दिमाग में बनाता है और अपने दिमाग को इतना मजबूत बनाता है और मन की मांसपेशियों में यह ताकत लेकर आता है कि जीवन शक्ति को ऊपर उठाने से सहनशक्ति बनती है।

वह हमेशा कहता हैं, मेरे पास अच्छी सहनशक्ति है। मैं अपनी महत्वपूर्ण ऊर्जा का उत्थान कर सकता हूं। मैं यह कर सकता है। मैं केवल धैर्य रख सकता हूं। भगवान मेरे साथ है।

यही सबसे बड़ा लाभ है कि सकारात्मक दृष्टिकोण से ब्रह्मचारी को गुप्त ईश्वरीय ज्ञान प्राप्त होता है । उसका व्यवहार पृथ्वी के समान है। अगर आप धरती खोदते हैं या उस पर पानी डालते हैं। तो  यह आपसे कभी कुछ नहीं कहती और पृथ्वी की इसकी सहनशीलता शक्ति का सीधा प्रभाव आपके जीवन पर पड़ता है।

उदाहरण के लिए, आप मिट्टी खोदते हैं और बड़े बड़े काँटों को पैदा करने वाला पौधा लगाते हैं। समय के बाद, पृथ्वी इस  पौधे को माँ की तरह पलती है और एक दिन, आप उसी पौधे के पास से जा रहे होते हो और आपके पैर इसका बड़ा कांटा चुभ गया और घाव हो गया है। दूसरा व्यक्ति, उसी समय मिट्टी खोदें और सरसों और हल्दी और अजवायन का पौधा डालें। आप उसी व्यक्ति के पास जाएं और सरसों का तेल और हल्दी और अजवायन लेकर उसी पंचर घाव को मिलाकर ठीक किया। यह आपकी मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ भी ठीक हो जाएगा।

अब, पृथ्वी में धैर्य है और हर कोई गलत करेगा उसके कर्म का परिणाम मिला जैसे पहले व्यक्ति को छड़ी की कील का दर्द मिला क्योंकि उसकी कार्रवाई खराब थी और दूसरे व्यक्ति ने दवा लगाई और ऐसे व्यक्ति की मदद की। पृथ्वी अपनी धैर्य क्षमता से दोनों लोगों की मदद कर रही है। वही क्षमता, हम ब्रह्मचर्य का पालन करके भगवान को याद करके प्राप्त कर सकते हैं। क्योकि जो आपसे वासना पूर्ण व्हवहार करता है तो आप अपना ध्यान परमात्मा की तरफ ले जाते हो व कहते हो के मैंने इसे माफ़ क़र दिया |  जो करेगा सो भरेगा | यह है आपकी सहनशीलता | 

ब्रह्मचर्य के ५४वें लाभ : मन में ज्ञान के प्रकाश में  सहायक

ब्रह्मचर्य आपको अपने मन में ज्ञान का उदय करने में  मदद करता है। इसका मतलब है कि आपने ज्ञान के प्रकाश में सब कुछ समझ लिया है और आप इसका उपयोग अपने और अन्य लोगों के लिए सबसे बड़े लक्ष्य के लिए कर सकते हैं।

जब प्रकाश होगा, अंधेरा दूर हो जाएगा। अंधेरा मौजूद नहीं है। यह आपके मन में ज्ञान की समझ की कमी के साथ ही आता है। जब आसमान साफ होता है और सूरज की रोशनी धरती पर पड़ती है। आप सब कुछ देख सकते हैं। आपने रस्सी को रस्सी समझ लिया और सांप को सांप समझ लिया लेकिन अंधेरे में आप रस्सी को सांप समझकर डरने लगते हैं और यह डर आपकी हृदय गति को बढ़ाता है और अंधेरे में आपको छड़ी की कील से घाव हो जाता है और आपको लगता है कि उसी सांप ने आप पर हमला किया है और जहर महसूस किया आप और बड़े दिल के दौरे से धरती पर गिरे व मृत्यु को प्राप्त किया । यह आप के अज्ञान की वजह से हुआ , कामुक विचार , कामुक इच्छाएं , मन में आपके वासना का होना, यह सब आप का अज्ञान है जो आपको डराता व कमजोर बनाता हुआ मृत्यु तक ले जाता है 

लेकिन ब्रह्मचर्य का पालन करने वालों के लिए ऐसा नहीं है। एक व्यक्ति जो ब्रह्म को याद करता है। ब्रह्म अपने सच्चे ज्ञान को आपके मन  में प्रकाशित करता है।

ब्रह्मचर्य के 55वें लाभ : विनम्र बनने में सहायक

ब्रह्मचर्य आपको विनम्र बनने में मदद करता है। यह प्राकृतिक नियम है, यदि आपके पास एक खाली घड़ा है, तो यह पानी से भरा जा  सकता है। यदि घड़े का मुँह खुला है, तो इस में पानी आ सकता है। क्योंकि ब्रह्मचर्य के कठोर नियमों का पालन करने से ब्रह्मचारी अपनी सारी कामुक सोच, वासनापूर्ण इच्छाओं और इच्छाओं को दूर कर देता है। वह काम और क्रोध की अपनी सभी बुरी आदतों को त्याग देता है। इसने उन्हें क्षणिक संवेदनाओं और कामुक सुखों के बंधन से मुक्त कर दिया। साथ ही, वह आध्यात्मिक ज्ञान के महान खजाने को सीखने में खर्च करता है। वह आध्यात्मिक और प्रबुद्ध लोगों की संगति में रहने लगता है। वह भगवान का ध्यान करने के लिए अधिक समय देना शुरू कर देता है। ये सब बातें उसे विनम्र बनाती हैं। यही विनम्रता उनके जीवन की सबसे बड़ी सफलता है। उन्होंने अपनी जुबान पर सफलता पाई। वह दुनिया के महान लोगों से कम बोलता और ज्यादा सुनता है। वह उन सभी चीजों के लिए भगवान को धन्यवाद देता है जो उसने प्रभु से प्राप्त की हैं, चाहे वह शरीर के अंदर और शरीर के बाहर और अन्य महान आत्माएं जो उससे महान ज्ञान प्राप्त करते हैं। वह उस पर दया करने के लिए प्रभु और महान आत्मा की प्रशंसा करता है। वह कभी शिकायत नहीं करता। वह कभी तुलना नहीं करता। उसकी दृष्टि में मित्र और शत्रु दोनों समान हैं क्योंकि वह एक विनम्र व्यक्ति की तरह दोनों में एक ही ईश्वर को देखता है। जब मित्र और शत्रु में एक ही ईश्वर है, तो दोनों की तुलना कैसे की जा सकती है। दोनों ही परमेश्वर की आत्मा हैं और वह परमेश्वर को देख सकता है। उसके लिए, सभी भगवान के पुत्र हैं और सभी समान हैं।


इसे अंग्रेजी में पड़े 

No comments

Powered by Blogger.