Header Ads

ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग १

 


40 दिनों के भोजन से हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाली शक्ति की रक्षा के लिए ब्रह्मचर्य बहुत आवश्यक है। महिला हो या पुरुष, कोई बात नहीं। दोनों खाना खाते हैं और इसकी प्रजनन प्रणाली समान रूप से  शक्ति एकत्र करती है और इसका उद्देश्य प्रजनन करना है न कि मन की कामवासना की भूख । अगर हम इसे छोटे से ५ से १० मिनट के रूप में प्रयोग करें तो मन की तृष्णा जरूर मिटती  है पर फिर मन भूखा का भूखा रह जाता है  । यह शक्ति की बर्बादी और इसकी कीमत होगी, आपको अपने शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कम करने के रूप में भुगतान करना होगा। अब प्रश्न यह है कि मैं ब्रह्मचर्य का अभ्यास कैसे कर सकता हूँ और अपनी यौन इच्छाओं पर विजय कैसे प्राप्त कर सकता हूँ। इसका सरल उपाय है, आपको अपने मन के ऊपर  ध्यान देना होगा क्यों क्यों क्यों क्यों जरुरी है ब्रह्मचर्य  इसके पीछे क्यों जानना जरुरी है ।

आपके जीवन के लिए ब्रह्मचर्य की आवश्यकता क्यों है? इस प्रश्न से हमें इसके 100 लाभ सीखने होंगे।

ब्रह्मचर्य का प्रथम लाभ : ब्रह्मचर्य के अभ्यास से हमें वीर्य की रक्षा का  लाभ मिलता है

यदि आप पुरुष हैं, तो आपके पास वीर्य है और यदि आप महिला हैं, तो वही वीर्य नाम बदल गया है। इसका नाम रज है। व दोने में हर समय काम का वेग होता है कभी कम कभी ज्यादा जैसे समुन्दर हमेशा गति करता रहता है |  यदि आप पुरुष या महिला हैं, यदि आप अपने ब्रह्मचर्य को तोड़ेंगे, तो आपको कभी भी वीर्य लाभ या वीर्य  की रक्षा करने का लाभ नहीं मिलेगा। 

यह मैं नहीं कह रहा हूं, यह योग ऋषि पंतंजलि ने योग सूत्र 2.3 . में लिखा है

ब्रह्मचर्य प्रतिष्ठाम वीर्य लाभ:

ब्रह्मचर्य = यौन अंगों की जीत (इंद्रिये विजय)

प्रतिष्ठा = मजबूत नींव

वीर्य = यौन ऊर्जा / महत्वपूर्ण ऊर्जा

लाभ = लाभ

मजबूत नींव बनाना आपका कर्तव्य है क्योंकि जब आप काम के विचारों के प्रति सक्रिय होंगे, तो वही सेक्स ऊर्जा खपत होगी। यदि आप अपने यौन विचारों को नियंत्रित करेंगे, तो आपकी यौन ऊर्जा आपके शरीर में होगी और वही आपकी ताकत का हिस्सा होगी जिसका उपयोग आपके लक्ष्य के लिए कहीं भी किया जा सकता है।

अब, हम इस 99 अगले यौन ऊर्जा लाभों पर चर्चा कर रहे हैं जो ब्रह्मचर्य के लाभों का हिस्सा होंगे।



ब्रह्मचर्य का दूसरा लाभ : ओजस और तेज़ प्राप्त करें

आपने  इतिहास में कुछ ऐसे लोगों को देखा है जो आकर्षण से भरे हुए हैं और अपने महान कार्यों से लाखों लोगों को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कैसे किया। उत्तर सरल है।

पहले उन्होंने काम-ऊर्जा को बरकरार रखा है। वही ऊर्जा ओजस में और वही ओजस तेज में बदल गयी है। इससे वे इस ऊर्जा से किसी भी काम को बड़ी आसानी से कर सकते हैं। आप उनके चेहरे पर ओज देख सकते हैं। एक रोशनी जब आप उनसे जुड़ेंगे।

यौन क्रिया हमारी ऊर्जा की खपत करती है क्योंकि यह सत्य है कि किसी भी शारीरिक गतिविधि को करने के लिए मानसिक और शारीरिक शक्तियों की आवश्यकता होती है। यदि हम इसकी रक्षा करते हैं, तो हमारे संतुलन में वही शक्तियाँ हैं जिनका उपयोग हम अपने जीवन में और दूसरे के जीवन में कहीं भी कर सकते हैं या स्थानांतरित कर सकते हैं।

दूसरे पर क्या प्रभाव पड़ता है। आपकी बात से दूसरे बदल सकते हैं। यह बड़ा प्रभाव है। अगर आप कहते हैं और दूसरे तुरंत आप की बात को मान कर चलने लग जाये तो यह आप में किसी देवी शक्ति का प्रतीक है जो ब्रह्मचर्य से आती है । ऐसा कैसे हो सकता है। हाँ संभव है उस बल के साथ जिसे आपने अपने वीर्य संरक्षण के माध्यम से बचाया है और अपने मस्तिष्क की ओज और तेज ऊर्जा में परिवर्तित किया है और जब यह दूसरे में स्थानांतरित होगा। दूसरे आपके सभी कार्यों को समझेंगे और सकारात्मक प्रतिक्रिया देंगे। इसका सीधा अर्थ है के अपने मन पर विजय होने से हम दूसरों के मनों पर अधिकार कर सकते है 

बिना खून के और पीलिया जैसे पीले रंग से भरे चेहरे वाले व्यक्ति व वह व्यक्ति जिसके गाल व माथा अंदर दब गया हो ऐसा प्रतीत हो के जैसे वह अभी वशयलय से आया हो  और बिना आत्मविश्वास के उसकी आवाज का आप पर क्या असर पड़ेगा। इसका अर्थ है कि आत्मविश्वास ही शक्ति है और वही शक्ति उसके ओजस और तेज की है जो महत्वपूर्ण ऊर्जा की बचत और ब्रह्मचर्य का पालन करने से आई है। व् वः एक आभा के रूप में उसके माथे के चारों तरफ आप देख सकते हो | 

आप महात्मा बुद्ध के चेहरे पर वही ओज और तेज  देख सकते हैं जिन्होंने ब्रह्मचर्य के अभ्यास से सभी ज्ञान प्राप्त किए।

ब्रह्मचर्य का तीसरा लाभ : स्मरण शक्ति बढ़ाना

हम सभी जानते हैं कि मानव मस्तिष्क ईश्वर का सुपर कंप्यूटर है जिसमें इस धरती के सभी सुपर कंप्यूटर से 1000 X शक्ति अधिक है। लेकिन फिर भी हमें सब कुछ याद नहीं रहता। हम जानते हैं कि स्मरण शक्ति न केवल छात्र के लिए बल्कि हर व्यक्तित्व में बड़ी सफलता है चाहे वह शिक्षक हो, चाहे वह डॉक्टर हो, चाहे इंजीनियर हो, उच्च स्तर की स्मृति शक्ति की बड़ी आवश्यकता है। ब्रह्मचर्य से हमें महत्वपूर्ण ऊर्जा लाभ मिलता है। अगर आप 100 दिनों तक सेक्स के विचार के बिना हैं रहे हो , तो  ही आप इसकी छोटी सी रोशनी देख सकते हैं। क्योंकि वही प्राण या काम-ऊर्जा मस्तिष्क में जाती है और एक बार जब आप पढ़ते हैं या देखते हैं या सुनते हैं, तो वही ऊर्जा मेमोरी कार्ड में सब कुछ कैद कर सकती है और सब कुछ बता सकती है कि आपने क्या पढ़ा, क्या सुना या क्या देखा। जब यह संभव होगा, तो आपको इस दुनिया के अगले जीनियस बनने से कोई नहीं रोक सकता। इस स्तर पर, आप अपने मस्तिष्क को १०% उपयोग से १००% उपयोग में अपग्रेड करेंगे।

ब्रह्मचर्य का चौथा लाभ: मृत्यु पर विजय प्राप्त करें

अगर आप अपने मन के विजेता हैं। यदि आप अपनी इंद्रियों के विजेता हैं। अगर आपने अपनी सेक्स इच्छा पर काबू पा लिया है। यह निश्चित है, आपकी शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक शक्ति में वृद्धि होगी। वही शक्ति आपको बहादुर बनाएगी। आप उसी वीरता से मृत्यु को अवश्य जीतेंगे। मौत को जीतो, इसका मतलब यह नहीं है कि आप मरेंगे नहीं या आप इस भौतिक शरीर को नहीं छोड़ेंगे। इसका केवल इतना ही अर्थ है कि आप मृत्यु के अपने सभी भय को दूर कर लेंगे। आप सच बोलने से नहीं डरोगे क्योंकि आपके पास शक्ति है और आपके  पास ऊर्जा है। आपके मन में पवित्रता है। तुम्हें कौन मारेगा। कौन तुम्हें यह भय दे सकता है कि यदि तुम सच बोलोगे तो वह तुम्हें मार डालेगा। कोई नहीं। मन की दुर्बलता से भय उत्पन्न होता है और मन की दुर्बलता ब्रह्मचर्य के भंग होने व वीर्य या रज के नाश होने से  या अपनी स्वयं की कामवासना को नियंत्रित न करने से आती है।

इतिहास महान व्यक्तित्व से भरा पड़ा है जो डरे नहीं और सच बोलते थे। उन में प्रमुख है  

 स्वामी दयानंद सरस्वती, राम प्रसाद बिस्मिल, भीष्म पितामह और अटल ब्रह्मचारी हनुमान जी जिनको हम शामिल कर सकते हैं।

वेद ऊँचे स्वर में बोलता है

ब्रह्मचर्येण तपसा देवा मृत्युमपाघ्नत। (अथर्ववेद 

ब्रह्मचर्य की तपस्या से महापुरुषों ने मृत्यु पर विजय प्राप्त की।

भले ही आप हमेशा अपनीकाम इच्छाओं को पूरा करने के लिए जाएंगे और केवल छोटी अवधि का सेक्स सुख प्राप्त किया और वही विभिन्न बीमारियों और मृत्यु को आसानी से पकड़ सकता है क्योंकि आप शारीरिक, मानसिक रूप से कमजोर हैं और आपको कमजोर बना दिया है। आपकी बीमारियों ने आपको कमजोर बना दिया और ये बीमारियां कैसे आईं। वे आपकी आंखों और आपके कानों की तरह आपके अनियंत्रित चलने वाले इंद्रियों से आए हैं और इससे हमारा मन छोटी अवधि के सुख प्राप्त करता है और लंबे समय तक अपने स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है। यदि आपको मृत्यु को जीतना है, आपको अपनी बीमारियों को जीतना है, आपको स्वस्थ रहना है और यह आपके ब्रह्मचर्य से संभव हो सकता है। इस लिए आज से ही पहले १०० दिनों के लिए ब्रह्मचर्य का व्रत ले व उसे बढ़ाते चले जाये 

ब्रह्मचर्य का 5वाँ लाभ : शारीरिक शक्ति

ब्रह्मचर्य के अभ्यास से आप अपनी शारीरिक शक्ति को बढ़ा सकते हैं। क्योंकि आप अपने वीर्य को बचाया हैं और यह आपकी शारीरिक शक्ति का हिस्सा बन जाता है। यहां तक ​​कि आप सामान्य भोजन करते हैं लेकिन आपने अपनी सभी यौन इच्छाओं को नियंत्रित करने पर ध्यान केंद्रित किया है, आप दिन-प्रतिदिन शारीरिक रूप से मजबूत होंगे। इस धन की रक्षा करने वाला प्रत्येक व्यक्ति शारीरिक रूप से समृद्ध हो गया।

ब्रह्मचर्य से शारीरिक शक्ति प्राप्त करने वाले लोगों के बहुत से महान उदाहरण हैं

ब्रह्मचर्य से बड़ी शक्ति पाने वाले प्रोफेसर राम मूर्ति। वह लोहे की जंजीर तोड़ सकते थे व उन्होंने तोड़ी भी । वह हाथी को अपने शरीर पर उठा सकते थे व उठाया भी 



हनुमान जी के पास पूरी चट्टान को उठाने की शक्ति है जब उन्हें समझ में नहीं आया कि कौन सी दवा उपयोगी है। जो चटान पर उगी हुई है तो उन्होंने अपने ब्रह्मचर्य की शक्ति को प्रयोग में लाया व अपने दोने हाथों से पूरी चटान को उठाकर प्राणाव्याम किया व इसी बल से चटान को उठाकर अपने लक्ष्य तक पहुंचे | 


स्वामी दयानंद ने ब्रह्मचर्य की शक्ति से अश्व वाहन को रोका था 


महाभारत युद्ध में भीष्म पितामह  प्रत्येक बाण को सहन करने की अपनी शारीरिक शक्ति के कारण बाणों पर बैठे थे और यह केवल ब्रह्मचर्य से ही संभव हो सकता है। क्योकि ब्रह्मचर्य से शरीर की सेहन करने की शक्ति बढ़ जाती है  


No comments

Powered by Blogger.