Header Ads

आत्मविश्वास कैसे प्राप्त करे




किसी को कोई भी बीमारी है वो कैसे ठीक हो सकती है अगर यह क्वेश्चन पुछु आप से के कोनसा ऐसा जादू है जिस से आप की सभी तरह की बीमारी ठीक हो सके तो दुनिया का कोई भी पेशेंट इसका आंसर देगा, कोई मेडिसिन मिल जाये , कोई सर्जरी का अच्छा डॉक्टर मिल जाये को यी जड्री बूटी मिल जाये तो इसका सब सा बेस्ट आंसर है वो आप मैं बताना चाहता हु कोई भी पेशेंट  व्यक्ति हो सफलता प्राप्त करना चाहता है जो सेहत प्राप्त करना चाहता है | उसको एक चीज मिल जाये तो वो सफलता प्राप्त कर सकता है तथा आपने सक्सेस प्राप्त कर  सकता है उसका नाम है सेल्फ कॉन्फिडेंस और आत्म विश्वास |

अगर पेशेंट के पास आत्म विश्वास नहीं है तो एक नहीं एक लाख दवा खा ले या लाखों रुपये ईलाज पर खरच कर ले वो स्वस्थ को प्राप्त नहीं कर  सकता | तो आईये एक डेमो से आप को यह सिखाते है कि  कैसे आत्म विश्वास को बहुत आसान तरीके से प्राप्त कर सकते है | यह एक किश्ती है मान लीजिये | आप ने किश्ती देखी  है | यह पर पेशेंट बैठा है | इस किश्ती के बिच में | उसको यह एक हजार बीमारिया है | उसको कुछ बीमारिया अन्य बीमारियों से पैदा हुई है | मान लो उसे मोटापा है , मान लो उसे मंदाग्नि है , मान लो उसे डायबिटीज है |  मान लो उसका बीपी हाई रहता है तो  उसके साथ एक और बीमारी फैटी लिवर उसको बोनस के रूप में मिल जाता है | तो ऐसे ही दिल की बीमारी है | वो चाहता है की यह किश्ती फ़ास्ट चले व उसे ले जाये सफलता की किनारे पर जहा है ख़ुशी, शांति , आनंद व स्वास्थ्य |  वो यह चाहता है | पर यह किश्ती जो है रसी के साथ  कनेक्टेड है | यह कनेक्टेड है १००० गलत आदतों का , १००० गलत भावनाओं का व जुबान पर नियत्रंण न होने का | जिसकी वजह से मनुष्य का आतम विश्वास ख़तम हो गया है |  इस रसी का नाम रखा गया है | असफलता की रसी | आतम हीनता की रसी | डर की रसी | अब कोई भी व्यक्ति सफलता के किनारे तक नहीं जा सकता | यदि किश्ती को डर की रसी नई पकड़ रखा है | यह डर है भविष्य में उसकी समस्या और ख़राब हो जाएगी | यदि पैसा नहीं है तो उसे डर है कि भविष्य में वो भिखारी बन जायेगा | यदि एक बीमारी है तो उसे दस और नई बीमारी लगने का दर है | हर चीज में उसे डर लगता है | यह एक पकी रसी बन चुकी है



इस डर रूपी रसी को काटना जरूरी है | इसको कटने के लिए हमे पहला स्टेप लेना होगा |


पहला पग :  अपनी क्षमताओं पर हमेशा ध्यान केंद्रित करना | 



जब से पहले इस को महत्व को समझ ले | इसको सिखने के लिए आप को ज्यादा खोजबीन नहीं करनी | यदि आप सिर्फ दसवीं भी पास हो तो इसको सिख सकते हो | आप को पता ही है यदि आप के पास लेंस भी हो सूरज की रौशनी भी हो व कागज भी हो तब भी कागज को आग नहीं लगती | क्योकि आप नई लेंस का ध्यान कागज के ऊपर नहीं किया | जैसे ही ध्यान केंद्रित करना शुरू करोगे तो कुछ ही मिनट्स में सूरज की सारी शक्ति को लेंस केंद्रीकृत कर देता है व कागज को आग लग जाती है यदि आप भी आप नहीं सभी शक्तियों में जिस में आप काबिल हो को एकता करना शुरू कर दो तो आप भी सफल हो जाओगे व यदि सफल हो गए तो आतम विश्वास अपने आप बढ़ जायेगा | अपनी कमजोरियों पर कभी ध्यान केंद्रित न करें क्योकि इससे कमजोरिया ही बढ़ेगी कम नहीं होंगी क्योकि लेंस का कानून लागु होता है |

इसके एक बार निचे देखे कैसे ध्यान शक्ति के केंद्रीकरण में सहयता देता है |




इस लिए आप अगर अपनी क्षमताओं पर ध्यान देते हो तो आप सफल हो जाओगे इसकी मैं गॅरंटी लेता हु | यदि बीमार हो तो बीमारी ख़तम | यदि पैसा नहीं तो पैसा आ जायेगा | यदि कोई चीज सिख रहे हो तो बहुत जल्दी सिख जाओगे |

आप के पास भी सभ कुछ है | आप के पास आदत है | गन्दी य अच्छी | आदत तो आदत होती है |

भावनाएं सकरात्मक या नकरात्मक हो, होते तो है | आप के पास भावनाएं है |

जुबान के ऊपर कण्ट्रोल न करना या जुबान के ऊपर कण्ट्रोल करना यह किस के अधिकार में है बताये


आप के पास अच्छी आदत बनाने की क्षमता बचपन से है

आप के पास सकरात्मक भावना बनाने की क्षमता बचपन से है

आप के पास क्षमता है के आप अपनी जुबान पर कण्ट्रोल करके मन को शांत कर सकते हो |


आप ने सिर्फ ध्यान देना है व आप देखोगे के आप ने अच्छी आदत बना ली है

आप ने  सिर्फ ध्यान देना है व आप देखोगे के आप ने सकरात्मक भावनाये बना ली है

आप ने सिर्फ ध्यान देना है व आप देखोगे के आप ने अपनी जुबान पर नियंत्रण पा लिया है


आप ने डर के बारे ,में बिलकुल नहीं सोचना | जिस दिन आप डर के बारे में सोचने लग जाते हो कुछ भी मिषापपेन्डिंग हो गयी | आप रोड पर गए थे आप के १२० हडियों के टुकड़े  गए |  चिंता न करे | समस्या के ऊपर ध्यान केंद्रित न करे | इस से समस्या हमेशा के लिए बढ़ जाती है | आप ने अपना पूरा ध्यान अच्छी आदतों को बनाने में करना है

(ए ) अपनी अच्छी आदतों को बनाने की क्षमता का दोहन करे 

आप ही सिर्फ अपनी सभी अच्छी आदत बना सकते हो | जितनी आप अच्छी आदत बनाओगे, उतना ही आप का आतम विश्वास बढ़ जायेगा | जैसे सुबह ३ बजे हर रोज उठना | हर रोज मैं ३ बजे सुबह  उठता हु | कुछ भी हो जाये मैं ८ बजे से पहले रात को सो जाता हु. मैं सुबह सब्जियों का रस भी  पीता हूँ मैं हर रोज सैर के लिए भी जाता हूँ | मैं हर रोज व्यायाम भी करता हूँ | सबके पीछे आप को चलना है व इसका गुलाम बनना है | आप के पास क्षमता है आदत कौन  सी बनानी है | अच्छी या गन्दी | आप ने सिर्फ अच्छी आदत का चुनाव करना है | सेहत के वीडियोस बनाना मेरी आदत है | मैं यह आदत बार बार दोहराता हु | व इसमें मेरा आत्म विश्वास बढ़ता जायेगा | अगर आप के पास कोई भी गुण है उसे बार बार दोहराये व उसमें महारत हासिल करे व आप सफल हो जाओगे | यदि आप को पेंटिंग अच्छी आती है तो पेंटिंग में ध्यान केंद्रित करे | अपना ध्यान को यह सोचने में व्यर्थ न करे के मुझे यह बीमारी है मुझे वो बीमारी है , मुझे यह समस्या है मुझे वो समस्या है  |  आज एक नोटबुक ले लो उसमें सभी अच्छी आदतों की लिस्ट बनाये जो आप ने अपनानी है | आदमी आदत बनाता है फिर वो आदत आदमी को बनती है |


( बी ) आपकी सकरात्मक भावनाएं बनाने की क्षमता का दोहन करे 

आप ने सकरात्मक भावना बनानी है या नकरात्मक भावना, यह आप के ऊपर है | किसी ने आप को एक हजार गाली निकाली, आप की उसके सबंन्ध में क्या भावना है, यह आप की क्षमता है | इसे कहते है सहन करने की क्षमता | मुझे कोई १००० गली निकले, मुझे सुनाई ही नहीं देती | क्योकि मैं कान होते हुए भी बहरा बन जाता हु व अपना पूरा ध्यान उस व्यक्ति से प्यार पर केंद्रित करने की कोशिश करता हु | कोई आवाज प्यार से दे हम तो फ़िदा हो जाये | यह कब होगा जब आप फोकस करते हो | मैं अपना ध्यान प्यार पर केंद्रित करता हु व आप अपना ध्यान नफरत पर केंद्रित करते हो | आग तो पका है दोने तरफ लगे गई | मेरी प्यार की आग मुझे आत्म विश्वास  व आप की आग आप को नफरत की आग में जला देगी | सब कुछ आप के ध्यान की दिशा पर निर्भर करता है |  आप अपना ध्यान हसने पर , खुश होने पर , विश्वास पर , आशावादी होने पर, उम्मीद पर व कृतज्ञता पर कर  हो | उसके बाद एक चीज आप में देखेगी व दस लोगो में नहीं देखेगी | क्योकि आप ने अपनी क्षमता का दोहन अपना ध्यान सकरात्मक भावनाएं बनाने में किया |  आप सूरज भी हो व आप लेंस आप का मन है व कागज जड़ है | जिसको आग लगानी है |  एक व्यक्ति जिसने अपनी आंखे बंद की है या जो अँधा है उसके सामने आप नंगे खड़े हो या कपड़े पहन कर कोई फर्क नहीं पड़ता | यदि ऐसा हो गया तो आप उसकी व्यक्ति के बारे में नहीं देखोगे जो आप की बेइज्जती सबके सामने कर रहा है | क्योकि ध्यान को आप ने कंटोल कर लिया के कहाँ इस्तमाल करना है |  हर चीज जो इस दुनिया में है वो आप के लिए जड़ है जब तक आप उसके ऊपर ध्यान नहीं देते | व आप को ध्यान देना भी नहीं | सिर्फ ध्यान को आप को अपनी शक्ति को बढ़ाने में इस्तामल करना है | हमेशा सकरात्मक सोचना है जिस से आप की भावना सकरात्मक बनेगी |

यदि कोई आप को शराबी व्यक्ति दीखता है तो जब यह भावना रखोगे के चाहे यह मेरा दोस्त है पर यह शराब पि रहा है इसे मरने दो व मुझे क्या लेना | मनुष्य को सिर्फ अपनी ही उन्नति में संतोष नहीं होना चाहिए बल्कि उसकी भावना सबकी उननति में में होनी चाहिए | उस शराबी व्यक्ति को अच्छी रह पर लेकर आना चाहिए | यह है सकरात्मक भावना | उस शराबी व्यक्ति को प्रोत्साहित करे के वो शराब छोड़ दे क्योकि इससे समय का नुकसान , सेहत का नुकसान व पैसे का नुकसान होता है | यह है आप की सकरात्मक भावना |  क्योकि आप उससे प्यार करोगे तो यह कर सकते हो व आप के प्यार में इतनी ताकत है के वो बदल जायेगा |

यह आप के अंदर का पोटेंशियल है के कैसा सोचते हो |


(स) जुबान के ऊपर काबू करना 

बाजार पूरी तरह से गलत खाने की चीजों से भरा हुआ है |  आप ने सब्जी लेनी है , या फल लेने है या दाल लेनी है या प्लास्टिक के दबो में बंद बीमार करने वाली चीजे लेनी है यह आप की जुबान निर्णये करेगी | यदि आप का जुबान पर नयंत्रण नहीं है तो यह सब गलत चीजे खा जाएगी |  आप ने प्रेशर कुकर इस्तमाल करना है या मिटी की हांड़ी इस्तमाल करके डायबिटीज से हमेशा के लिए बचना है | यह आप की जुबान निरयणये करेगी

तो  जुबान को कण्ट्रोल करना सीखें | इसे बना मीठे व बिना नमकीन खाने की आदत डाले ताकि आप का ब्लड प्रेशर आप के कण्ट्रोल में रहे व आप का सेहत का आतम विश्वास बड़े | तो आप को हमेशा ही उपरोक्त पग को लेते हुए व उसके सब स्टेप्स को फॉलो करते हुए अपना आत्म विश्वास बढ़ाना है |

यदि आप ने मेरे से निजी इलाज करना है तो मेरा व्हाट्सप्प नो.. है  +९१-९३५६२३४९२५


No comments

Powered by Blogger.