Header Ads

ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ४

 स्वागत है ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ४ में । यदि आपने भाग १, भाग २ और भाग ३ नहीं पढ़ा है, तो अभी पढ़ें। हमने अब तक ब्रह्मचर्य के 15 लाभों को कवर किया है। आज हम 16वें लाभ से शुरू करेंगे

ब्रह्मचर्य का १६वाँ लाभ : मन में कभी ध्यान न भटकाने की शक्ति प्राप्त करना 

ब्रह्मचर्य का यह बड़ा लाभ है कि ब्रह्मचर्य का पालन करने वाला कभी किसी से विचलित नहीं होता। उसका लक्ष्य बहुत स्पष्ट है। उसे ब्रह्मचर्य नाश के लिए जिम्मेदार सभी शत्रुओं को मारना है। सबसे पहले वे उन सभी मोबाइल ऐप्स को डिस्कनेक्ट कर देते हैं जो मोबाइल पर वासना फैला रहे हैं। वे मोबाइल से सभी सोशल नेटवर्क को भी डिस्कनेक्ट कर देते हैं। उन्होंने फेसबुक काट दिया, उन्होंने पूरे सोशल नेटवर्क को काट दिया क्योंकि, अब ब्रह्मचारी जान गया है , एक छोटे से सांप के हमले से भी उसमें में जहर पहुंच सकता है । वे बहुत सावधान हैं। यहां तक ​​कि वे व्हाट्सएप लोगों को ब्लॉक कर देते हैं जो वासनापूर्ण स्थिति की तस्वीरें फैला रहे हैं। वे कभी मोबाइल खेल नहीं खेलते। वे कभी भी कामुक गीत, फिल्में नहीं गाते हैं। यहां तक ​​कि उन्होंने कभी कोई रोमांटिक टीवी सीरियल नहीं देखा। वे ऐसे सभी लोगों से दोस्ती तोड़ देते हैं जिनकी संगत खराब होती है। ब्रह्मचर्य का पालन करने वाले ये सब बातें बहुत आसान हैं।

यहां तक ​​कि जब ऑफलाइन में जाते हैं और किसी महिला को देखते हैं तो मन ही मन बोलते हैं। वह मेरी मां है और मैं उसका बेटा हूं। क्योंकि कोई भी उसका ध्यान भंग नहीं कर सकता और उससे उसकी वीर्य संपत्ति नहीं ले सकता।

वे हमेशा याद करते हैं

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः। कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत्।।16.21।। 

गीता के अनुसार नरक के तीन द्वार हैं। काम, क्रोध और लोभ तीन नरकों के द्वार हैं। वासना वाले लोग जीवन में नरक महसूस करते हैं। वीर्य के बिना, वे जीवित मृत शरीर बन जाते हैं। सिर्फ इंसान का जन्म लेने का मतलब यह नहीं है कि आप इंसान हैं।

मनुष्य बनने के लिए ज्ञान, नम्रता, सहनशक्ति, शांति, सद्गुणों की आवश्यकता होती है। ये सब चीजें ब्रह्मचर्य के साथ आएंगी।

ब्रह्मचारी कभी भी मिथ्या सुख में नहीं आते। वे लालची कुत्ते नहीं हैं। वे वासनापूर्ण विचारों को साँप की शय्या समझते हैं।

वे हमेशा सोचते हैं कि दाने वाली जगह  या दाद या फंगस का संक्रमण हो जाए  तो वह पर खुजली करने से कभी शांति नहीं होती।


वे हमेशा यह गीत गाते हैं



वे हमेशा सकारात्मक सोचते हैं

सर्प से दूर रहने में ही मेरी रक्षा हो सकती है  । इस तरह, सुरक्षा यौन विचारों से दूर है, यौन विचारों से कभी जुड़ाव नहीं करते | 

ब्रह्मचर्य का १७वां लाभ : पाचन शक्ति बढ़ाएं

पाचन तंत्र का शरीर के प्रजनन तंत्र से बड़ा संबंध होता है। अगर आपने अपनी वीर्या को बचाया और इसे कभी बर्बाद नहीं किया। वही ऊर्जा आपके पाचन तंत्र में जाती है। पाचन तंत्र में ग्रंथि होती है जिसका नाम अग्न्याशय है। हिन्दी में इसे जठाग्नि कहते हैं। इस ऊर्जा से यह आग और बढ़ेगी। इससे आपकी पाचन शक्ति में वृद्धि होगी। आप जो खाते हैं, वह तेजी से पचता है और यदि आप तेजी से पचते हैं, तो आपका वीर्य बढ़ जाएगा। वीर्य बढ़ेगा तो स्वास्थ्य में वृद्धि होगी। यह प्राकृतिक सकारात्मक चक्र है।

यदि आप अपने शरीर की प्रजनन प्रणाली का अनैतिक दुरूपयोग करने लगते हैं और वीर्य को बर्बाद कर देते हैं। इससे आपकी पाचन क्रिया बुरी तरह प्रभावित होगी। इसका अग्न्याशय आपके दिए गए भोजन को पेट में और बिना पाचन के आग नहीं लगाएगा। यह बिना पचा हुआ धूल और विष है और यह नहीं हटेगा क्योंकि आपके पास इसे निकालने की ऊर्जा नहीं है। तो, यह दुष्चक्र है। आपने अपने वीर्या को बर्बाद कर दिया है। आपकी जठर अग्नि धीमी हो गई है और अब आपका पाचन धीमा हो गया है और अब आपका वीर्य तेजी से nhi बनेगा और इससे रोग तेजी से आएंगे। आप देखते हैं कि कुछ लोग एक छोटा गिलास दूध नहीं पीते हैं क्योंकि पाचन कम होता है kyoki unhone ब्रह्मचर्य तोड़ा  hota hai

तो आइए और ब्रह्मचर्य का पालन करें यदि आप अपनी पाचन शक्ति को बढ़ाना चाहते हैं।

ब्रह्मचर्य का १८वाँ लाभ : मन को जीतने में मदद

बहुत बढ़िया उद्धरण है। पहले अपने सिर्फ मन को जीतो, संसार तो अपने आप जिता जाएगा । अखण्ड ब्रह्मचारी के लिए मन को जीतना इतना कठिन कार्य नहीं है। क्योंकि वह वासनापूर्ण चिन्तन और वासनापूर्ण कार्यों में समय नहीं व्यतीत करता है। इसलिए, उन्होंने बड़ा समय बचाया। उसी समय, वह अच्छी किताबों का अध्ययन करने के लिए निवेश करता है। वही किताबे से उनके मन में ज्ञान आया। उसका दिमाग शक्तिशाली हो जाता है। मन की वही ऊर्जा उसे अपने सपनों की कल्पना और कल्पना को साकार करने में मदद करती है। वह तुरंत कार्रवाई करता है क्योंकि वह ऊर्जा से भरा होता है और तुरंत कार्य उसे दुनिया में विजेता बनाता है।

तो आओ और ब्रह्मचर्य का पालन करो।

ब्रह्मचर्य का 19वां लाभ: महान तर्क करने की शक्ति

ब्रह्मचर्य आपको मेधा बुद्धि देता है। वही मेधाबुधि केवल बहुत कम बुद्धिमान लोग हैं जो 2+ वर्षों से ब्रह्मचारी हैं। बुद्धिमान व्यक्ति जहां विफल होता है, ब्रह्मचारी का मस्तिष्क उस विफलता बिंदु से शुरू होता है और समस्या का समाधान करता है। लाखों गूगल उसकी महान तर्क की लड़ाई से नहीं जीत सकते । बुद्धिमान व्यक्ति यह नहीं बता सकता कि दूसरा व्यक्ति क्या सोच रहा है, लेकिन मेधाबुद्धि व्यक्ति अपना चेहरा देखकर ही सच बता सकता है कि दूसरा क्या सोच रहा है क्योंकि उसके दिमाग में जो है, वह पूरी दुनिया में है। जैसे शुद्ध मन सारे जगत में पवित्रता देखता है और वही द्वेषी मनुष्य सारे जगत में घृणा देखता है। तो, अगर आप जवाब देना चाहते हैं

ऐसा क्यों हुआ

क्यूं कर

कारण और प्रभाव

या वैज्ञानिक बनना चाहते हैं

ब्रह्मचारी हो जाये ।

हमारे पास भारतीय ऋषि मुनि का महान इतिहास है। सभी वैज्ञानिक हैं। वे किसी व्यक्ति के भविष्य और इतिहास को जान सकते हैं | 

क्योकि वः ब्रह्म या भगवान के हमेशा ध्यान में रहते है 

जब विश्वामित्र ने मन में वासना को जीत लिया, तो वे महर्षि बन गए जिन्होंने पृथ्वी पर स्वर्ग  बनाया और सत्यवादी हरिश्चंद्र के गुरु बने और उनकी सत्यता की परीक्षा ली।

ब्रह्मचर्य का 20वां लाभ : तेजी से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करें

ब्रह्मचर्य के कठोर नियमों का पालन करने वाले व्यक्ति के लिए कुछ भी असंभव नहीं है। तेजी से आर्थिक आजादी पाने के लिए एक दिन में ज्यादा से ज्यादा 4 घंटे से ज्यादा पढ़ाई करने की जरूरत है। इससे आप लेखांकन, वित्त, अर्थशास्त्र और व्यवसाय और वित्तीय प्रबंधन की ताकत प्राप्त करना सीख सकते हैं। सभी को आपके फोकस की ऊर्जा की जरूरत है। अगर आप वासना या सेक्स के आदी हैं। वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करना असंभव है।

यह सरल उद्धरण है

जहां मन में पवित्रता नहीं है वहां लक्ष्मी नहीं आएगी। लक्ष्मी और सरस्वती दोनों बहनें हैं। सरस्वती ज्ञान प्राप्त करने के लिए अभ्यास  की मांग करती है। आर्थिक मामलों की सिद्धि कब मिलेगी, जब आप के पास लक्ष्मी आएगी

उस समय आपका व्यवसाय उच्च स्तर पर पहुंचने लगेगा। यह तभी संभव होगा जब आप सकारात्मक दिशा में मेहनत करेंगे। तो, ब्रह्मचर्य के पके  बनो और अपने मन को अशुद्धता की ओर जाने के लिए रोको जहां लक्ष्मी के जाने के बाद तुम भिखारी बन जाओगे।

क्यों भूल गए, लक्ष्मी और सरस्वती दोनों ही तुम्हारी माता हैं। हर महिला में एक जैसी ऊर्जा होती है।

अगर आपने स्त्री के  चेहरे की सुंदरता पर आकर्षित हुए हो । क्यों भूल गए, लक्ष्मी और सरस्वती दोनों वहीं बैठे हैं, इसी कारण  उनमें सौन्दर्य है। लेकिन  अपने वासनापूर्ण विचारों से  अगर आप ने स्त्री के अंदर बैठे  लक्ष्मी और सरस्वती माता का त्रिस्कार किया तो दोनों मताये आप को श्राप देंगी 

सरस्वती माता का श्राप 

विषय की वजह से आप अपना ज्ञान भूल जाओगे 

लक्ष्मी माता का श्राप 

विषय की वजह से आप अपना कमाया धन अयाशी में लुटा कर बर्बाद कर दोगे 

विद्या को भूलकर आप उसी ज्ञान का उपयोग नहीं करेंगे और यदि आपने अपने ज्ञान का उपयोग नहीं किया है, तो आपका मूल्य सिर्फ श्रम का  है  पर आप के वीर्य नाश से आप से तो श्रम भी नहीं होगा | फिर तो भीग ही मांगनी पड़ेगी | 

यदि आप अपनी विद्या पर सिद्धि बनना चाहते हैं, तो विनम्र बनो और पूरी दुनिया की महिलाओं को माँ के रूप में देखना शुरू करो।

No comments

Powered by Blogger.