Header Ads

ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ६

"ब्रह्मचर्य के १०० लाभ" के भाग ६ का स्वागत है। कृपया पहले भाग १, भाग २, भाग ३, भाग ४, भाग ५ पढ़ें।

ब्रह्मचर्य का 26वाँ लाभ : ईश्वर प्राप्ति के लिए ब्रह्मलोक जाने का अधिकार 

भगवान हर जगह है। ईश्वर हर चीज में है। लेकिन फिर भी उसे कोई नहीं देख पाता। उसकी आवाज कोई नहीं सुन सकता। उसे कोई महसूस नहीं कर सकता। जो व्यक्ति ब्रह्मलोक में जाने का अधिकार प्राप्त कर लेता है, वह भगवान को पा सकता है। वह ईश्वर जो इतना शक्तिशाली है जो सब कुछ जानता है। वह निडर है।हर  जगह पर उपस्थित। वह दयालु है। वह कोई बदला नहीं लेता। वह हर समय सच है।  पर फिर भी बड़ा रहस्मय है क्योकि उसे सिर्फ अपने अंदर ही पाया जा सकता है या है चीज में उसे देखने वाली आंख से | 

ब्रह्मलोक पहुंचने के लिए कई शर्तें हैं जो प्रष्णौपनिषद बताती हैं

तेषामेवैष ब्रह्मलोको येषां तपो ब्रह्मचर्य येषु सत्य प्रतिष्ठतम ( Prishnoupanishad)

भगवान ब्रह्मलोक में रहते हैं। एक व्यक्ति जो ब्रह्मचर्य के सख्त नियमों का पालन करता है और हमेशा ब्रह्म को याद करता है और उसके दिमाग में एक भी सेक्स का विचार कभी नहीं आता है, उसे ब्रह्मलोक में जाने और भगवान को खोजने का अधिकार मिल सकता है। आओ भगवान देखें। भगवान से मिलो। भगवान की आवाज सुनो। वह हमेशा से सच है । ब्रह्मचर्य के कठोर नियमों का पालन करने से ब्रह्मचारी सच्चा हो जाता है और स्वतः ही ब्रह्मलोक को प्राप्त हो जाता है।

एक साधारण उदाहरण

मैं एक बहुत ही सरल उदाहरण समझा सकता हूं। यदि आपके पास वेबसाइट होस्टिंग खाता है। आप को दो अधिकार होंगे । आप अपने होस्टिंग खाते के अंदर पहुंच सकते हैं जो कि निजी है और आप अपनी वेबसाइट भी देख सकते हैं जो सार्वजनिक है। होस्टिंग के अंदर जाकर आप अपनी पब्लिक वेबसाइट का डिजाइन डेवलप कर सकते हैं और कंटेंट लिख सकते हैं। सार्वजनिक वेबसाइट को देखकर आप इसके प्रभाव की जांच कर सकते हैं। लेकिन वेबसाइट के दर्शक को आपकी सार्वजनिक वेबसाइट देखने और आपकी लिखित सामग्री को पढ़ने का केवल एक ही अधिकार है लेकिन आपकी वेबसाइट के डिज़ाइन को बदलने या सामग्री को बदलने का कोई अधिकार नहीं है।

अब, यदि दर्शक आपकी वेबसाइट में सामग्री लिखना चाहता है या अपनी वेबसाइट का डिज़ाइन सुधारना चाहता है। इसके लिए उसे आपके हस्टिंग खाते के अंदर अधिकार प्राप्त करने की अपनी क्षमता दिखानी होगी

1. उसे आपसे अनुरोध करना होगा कि आप उसकी मदद करें क्योंकि उसने आपसे प्रेरणा ली है।

अब कल्पना करें कि ईश्वर आपके अंदर है यानी आपका शरीर होस्ट करता है और आत्मा के पास रहता है और शरीर के बाहर हर चीज में रहता है। आप उनकी रचना को वेबसाइट डिजाइन और वेबसाइट सामग्री को देखकर देख सकते हैं। यानी आप सूर्य, चंद्रमा, पृथ्वी, पौधे, जानवर और अन्य मनुष्यों को देख सकते जो भगवान ने बनाये  हैं। अब, भगवान ने आप को प्रेरित किया और व्यक्तिगत रूप से उनसे मिलना और उनके होस्टिंग खाते के अंदर जाना चाहते हैं। मुझे बताओ आप क्या करोगे 

आप भगवान से अनुरोध करते हैं, प्रिय भगवान, मैं तुमसे प्यार करता हूँ। मुझे आपकी हर रचना प्यारी है। आपका सब कुछ सुंदर है। आपका सब कुछ पूर्ण है। तुम बहुत बड़े मास्टरमाइंड हो। मैं तुम्हें अपने अंदर देखना चाहता हूं और मैं तुमसे मिलना चाहता हूं। मै तुमसे बात करना चाहता हूँ। मैं आपको सुनना चाहता हूं। मैं आपकी रचना में योगदान देना चाहता हूं। प्रार्थना के रूप में भगवान से अनुरोध करना ब्रह्मचर्य है। भगवान को याद करना ही ब्रह्मचर्य है। ईश्वर को अपने भीतर देखने की इच्छा ब्रह्मचर्य है। परमात्मा का ज्ञान ही ब्रह्मज्ञान है | और भगवान में महान गुण है कि भगवान सभी इच्छाओं को पूरा करते हैं।

आपको यह तय करना है कि आपको हर चीज के निर्माता से मिलना है या उसकी बनाई हुई चीजों में मोह रख कर उसके बनाने वाले को भूल ही जाना है ।

ब्रह्मचर्य का अनुयायी भगवान से तेजी से जुड़ता है क्योंकि वे हमेशा भगवान की प्रार्थना करते हैं और भगवान से समाधि में मिलते हैं और ब्रह्मलोक में पहुंचते हैं जो माथे में दो आंखों के बीच होता है। उनकी महत्वपूर्ण ऊर्जा उत्थान करती है और तेजी से ब्रह्मलोक में प्रवेश करने में मदद करती है। ब्रह्मचर्य की शक्ति से लंबे समय तक प्राणायाम करना आसान है। समाधि में पहुंचना आसान है।

सरल शब्दों में कहें तो भगवान को पाने के लिए आपको अपनी सभी इच्छाओं का त्याग करना होगा और इस जीवन में केवल ईश्वर को प्राप्त करने की इच्छा रखनी होगी और यह ब्रह्मचर्य में ही संभव है।

रामकृष्ण प्रमहंस हमेशा कहते हैं, जहां तुम्हारे मन में वासना है, वहां तुम्हारे मन में राम नहीं है। मानव शरीर में ईश्वर प्राप्ति के लिए आपको ब्रह्मचर्य से परिपूर्ण होना चाहिए। 12 वर्षों तक ब्रह्मचर्य के पालन से मस्तिष्क में एक नई तंत्रिका विकसित होती है और ईश्वर से जुड़ जाती है। इससे पहले यदि आप ब्रह्मचर्य को तोड़ते हैं, तो आप फिर से शुरू करते हैं। तो सावधान रहो।

स्वामी दयानन्द कहते हैं

जैसे सर्दी के मौसम में अगर आप आग लगाने जाएंगे तो सर्दी से बच जाएंगे। यदि आप भगवान के पास जाएंगे, तो आप सभी मानवीय दुखों से बचेंगे और भगवान के गुण, कार्य और व्यवहार को प्राप्त करेंगे।

ब्रह्मचर्य का 27वां लाभ : प्राणायाम के सभी लाभ प्राप्त करना

प्राणायाम से हमें अपने फेफड़ों में ताजी हवा मिली और वही ताजी हवा पूरे शरीर को साफ करती है। लेकिन प्राणायाम का लाभ केवल ब्रह्मचर्य के अनुयायी को ही मिल सकता है। यदि आपको ब्रह्मचर्य में महारत हासिल नहीं है, तो आपको प्राणायाम नहीं करना चाहिए। यानी पंतजलि ऋषि ने अपने 8 योग सूत्र में ब्रह्मचर्य को सबसे पहले रखा।

इसके पीछे बड़ी वजह है।

प्राणायाम करने से पूरे शरीर को एक ऊष्मा ऊर्जा प्राप्त होती है जो उसके वीर्य अशुद्धियों को शुद्ध करके शरीर को शक्तिशाली बनाती है। जो व्यक्ति हमेशा वासनापूर्ण जीवन और अनियंत्रित जीवन से जुड़ा रहता है, यदि वह प्राणायाम करेगा, तो वही ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होगी लेकिन वीर्य नहीं है, इसलिए वही ऊष्मा रक्त  को खा जाती है और मनुष्य कमजोर हो जाएगा। दूसरा, वह कमजोर बिंदु के कारण लंबे समय तक सांस रोककर नहीं रख पाएगा, क्योकि वह है ब्रह्मचारी है ही नहीं 

तो पहले 40 दिनों तक ब्रह्मचर्य का सख्ती से पालन करने का वादा करें, फिर धीरे-धीरे प्राणायाम शुरू करें

28वा  ब्रह्मचर्य का लाभ: अवसाद पर काबू पाएं

डिप्रेशन के कई कारण हो सकते हैं। व्यापार में घाटा हो या कानूनी मामला। चाहे पारिवारिक तनाव हो या स्वास्थ्य का तनाव। सभी वित्तीय, कानूनी मुद्दे, पारिवारिक और रिश्ते के मुद्दे और स्वास्थ्य तनाव अवसाद लाता है। ब्रह्मचर्य का पालन करके हम इसका समाधान कर सकते हैं।

डिप्रेशन पहले मन को और फिर दिमाग को खराब करता है। लेकिन जब आप सब कुछ भूल जाते हैं और हर रोज, आप अपनी सेक्स इच्छा को नियंत्रित करने में ध्यान लगाते हो , तो आपकी महत्वपूर्ण ऊर्जा का संरक्षण होना शुरू हो जाता है। वही ऊर्जा पहले मन को क्रम में लाती है। जब मन का विकार दूर होगा, मस्तिष्क क्रम में होगा। अब, व्यवस्थित दिमाग और दिमाग के साथ, आप बेहतर निर्णय लेते हैं। आप अधिक खुश महसूस करते हैं क्योंकि आपने आंतरिक कमाई को बचाने पर ध्यान केंद्रित किया है जो कि वीर्या या रज की बचत से आई है। अब, अपनी आंतरिक शक्ति से, आप जीवन के विभिन्न हिस्सों में जोखिमों का प्रबंधन करते हैं। आप डर कर भागेंगे नहीं या लड़ाई नहीं करेंगे। आप संतुलित निर्णय लेंगे। यह संतुलित निर्णय आपको सफलता की ओर ले जाएगा।


ब्रह्मचर्य का २९वां लाभ : सत्य के स्तर को अंदर से बढ़ाएं

सच ये है

भगवान आप के शरीर की मशीन के अंदर दिन-रात काम कर रहे हैं। भगवान हमारा  भोजन पचाने में मदद करते   हैं और भोजन को रक्त और अन्य 7 धातुओं में परिवर्तित करते हैं और वीर्य या रज को अंतिम धातु बनाते हैं। भगवान दिन-रात मेहनत कर रहे हैं और शरीर के अंदर वीर्य या रज जमा कर रहे हैं।


सच ये है

भगवान अपने धन को पुरुष मानव शरीर में वृषण में और महिलाओं में अंडाशय में रखता है।

झूठ है

अब, आप उसी वीर्य धन के मालिक बन गए। आपका सच्चा कर्तव्य भगवान के धन को बचाना है। लेकिन धोखेबाज के रूप में, आपने अपने शरीर से वापस ले कर वही धन लिया है और वही धन बर्बाद किया है

 वासना देखने से

वासना पढ़ने से

वासना सुनने से

वासना को याद करके

वासना से बात करके।

भगवान आपको ऐसे धोखेबाज के रूप में देख रहे हैं जो बिना कमाई व मेहनत से अर्जित धन का आनंद ले रहे हैं। भगवान सोचता है कि आप ईमानदार नहीं हैं  क्योकि आप ने भगवन की पूंजी  का उपयोग करके बर्बाद कर दिया है जो आपने अपनी मेहनत से नहीं कमाया है। अंदर की मशीन हमारे द्वारा संचालित नहीं है। मुझे बताओ, क्या आप अपने फेफड़े, अपने दिल, अपने पेट की प्रणाली और रक्त परिसंचरण तंत्र का संचालन कर रहे हैं। सब कुछ भगवान ने अपनी मेहनत से किया है और आपको दूसरे की संपत्ति को बर्बाद करने का अधिकार नहीं है।

ब्रह्मचर्य का पालन करके प्रत्येक व्यक्ति अपने सत्य के आंतरिक स्तर को बढ़ा सकता है। यह सत्य है कि हमारे पास अपनी यौन इच्छाओं को नियंत्रित करने और परमेश्वर के उस धन की रक्षा करने की शक्ति है जो उसने अपनी मेहनत से बनाया है। . यहां तक ​​कि आप अपनी मन की कमजोरी के कारण जीतने की प्रतिबद्धता के बाद भी अपनी सेक्स इच्छा को नियंत्रित करने में 1000 बार असफल हुए हैं। इसने तुम्हारे भीतर के सत्य के स्तर को कम कर दिया है।

लेकिन आपने हार नहीं मानी।

अच्छी आदतों को दोहराने और अभ्यास की बहुत आवश्यकता होती है।

 फिर से अगर आपने अपनी यौन इच्छाओं को नियंत्रित किया है, तो इसका मतलब है कि आपने अपने सत्य स्तर को बढ़ा दिया है। आपने जो कहा है, आपने अभिनय किया है और जीता है

ब्रह्मचर्य का पालन करके आपने अपने साथ सच्चा वचन निभाया है।

इस सत्य से आपकी जीभ को शक्ति मिलती है। आप जो कहेंगे, वह भविष्य में सच होगा।

और यह शक्ति बाजार से खरीदने से नहीं मिल सकती। यह शक्ति सच्ची प्रतिबद्धता के साथ आती है कि मैं अपनी आंतरिक यौन ऊर्जा को 100 दिनों तक बर्बाद नहीं करूंगा। अगर यह सच है। इसका मतलब है, आप सच्चे हैं और हर क्षेत्र में, आप प्रतिबद्ध होना  के  लिए शुरू करते हैं और व आप सच्चे होंगे। आप को  वाक सिद्धि मिलेगी। आप जो कहेंगे, वह सच होगा।

ब्रह्मचर्य का 30वां लाभ : सभी प्रकार के दुखों से मुक्ति 

ब्रह्मचर्य का यह बड़ा लाभ है कि इसकी सहायता से हम सभी प्रकार के दुखों से मुक्त हो सकते हैं। कामवासना कभी पूरी नहीं होती और इसके कारण हम बार-बार उसकी पूर्ति की कोशिश करते हैं और अपनी महत्वपूर्ण ऊर्जा को खो देते हैं। जब शरीर में ऊर्जा न हो। शरीर कमजोर होने लगता है और तरह-तरह के दु:ख होने लगते हैं। जब हम अपनी यौन इच्छा को जीत लेते हैं। हम उसी ऊर्जा की रक्षा कर सकते हैं और यह ऊर्जा हम सभी के दुखों से बचाती है 

संत कबीर ने अपने शब्दों में इसकी व्याख्या की है

काम सुआइ गज बसि परे मन बउरा रे अंकसु सहिओ सीस ॥१॥

यानी इंसान ने पहले मिट्टी की मादा हाथी बनाई । नर हाथी की यौन इच्छा उसे  मनुष्य के जाल के निकट ले आती  है और मनुष्य का वह दास बन जाता  है। उसकी दासता के कारण मनुष्य सिर पर नाचता  है और हाथी उसके अधीन होकर कार्य करता है और दुखों को भोगता है।

अब संत कबीर नर हाथी को मानव मन के रूप में परिवर्तित करते है 

क्या यह इंसान के दिमाग की कहानी नहीं है। वह अपनी कामवासना के पीछे भाग रहा है और अपनी वीर्य (महत्वपूर्ण ऊर्जा) को बर्बाद कर रहा है। अपनी प्राण शक्ति के नष्ट होने के कारण वह दास हो जाता है और सभी दुखों को भोगता है। कामवासना में इंसान अपना जीवन बर्बाद कर देता है। 

तो ब्रह्मचर्य ही समस्त दुखों से मुक्ति का उपाय है।

महात्मा बुद्ध कहते हैं

सब दुख का कारण मनुष्य की अपनी  सेक्स की इच्छा। यदि मनुष्य को कामवासना से मुक्ति मिल जाए तो वह जीवन भर वास्तविक सुख प्राप्त कर सकता है।

इसलिए ब्रह्मचर्य का पालन करना शुरू करें और सभी दुखों से मुक्ति पाएं।

Read it in English 

1 comment:

  1. Extremely knowledgeable literature Sir approved by Santa.
    है ब्रह्मचर्य सबका परम धर्म और कहे ब्रह्मचारी उसको ब्रह्मचर्य की रक्षा करता है ईश्वर का भय व्यापै जिसको

    ReplyDelete

Powered by Blogger.