ईर्ष्या से कैसे छुटकारा पाएँ?




ईर्ष्या एक नकरात्मक भावना है | यह मानव जीवन का आसानी से विनाश कर सकती है| इससे छुटकारा पाया जाना बहुत जरुरी है | हम आप को इससे छुटकारा पाने का आसान तरीका बता रहे है | हम यह भी बतायेगे कैसे आप इसकी जगह पर सकरात्मक भावनाये जैसे प्यार, मोहबत, विश्वास व आशावाद को लेकर आ सकते है |

ईर्ष्या का मतलब 

सबसे पहले जाने गे  ईर्ष्या क्या होती है |  ईर्ष्या का मतलब होता है दूसरे की तरक्की देख कर जलना व सड़ना |  इस दुनिया में सिर्फ दो ही प्रकार के मनुष्य रहते है | चाहे वह स्त्री हो या पुरष हो |

एक : जो अपने अंदर अपने मकसद को पूरा करने की आग को जला कर  रखते है |  कोई भी मकसद रखा है किसी ने |  दुनिया में ऐसे ऐसे महान व्यक्ति हुए है के २१ २१ साल तक उनके अंदर एक ही आग लगती है कि  मुझे यह लक्ष्य हर हालत में प्राप्त करना है |  एक दिन ऐसा आता है के उनका वह  लक्ष्य पूरा हो जाता है |


दूसरा : दूसरी तरफ एक आग ओर  भी लगती है | वह है ईर्ष्या की आग |   जो अपने अंदर दुसरो की सफल को देख कर  जलने की आग जला कर रखते है | मतलब आप अपने आप में असुरक्षा ले कर आना | अपने आप को दुसरो के सबंध में कम आंकना | अपने आप को निचा दिखाना |  कि  आप ने जिंदगी में कुछ हासिल नहीं किया वो देख आप के साथी ने लक्ष्य को प्राप्त कर  लिया |

जब इस तरह के ख्याल व विचार आप के मन में आते है | तो यह ईर्ष्या रूपी बीज धीरे धीरे आप के विचारों से पानी लेकर वृक्ष बन जाते है | इस की सबसे बड़ी हानि आप के रिश्तो में खटास आना है | ईर्ष्या की वजह से आप अपने अपनों से गुसा हो सकते हो | आप उनके बारे में गलत सोच बना सकते हो | जैसे आप का दोस्त आप से ज्यादा तरकी कर गया तो आप उसे निचा दिखने के लिए कह सकते हो कि  तूने बईमानी से यह पैसा बनाया है | क्योकि आप के मन में ईर्ष्या रूपी आग है व यह ऐसे गलत आरोपों से शांत हुआ करती है पर आप अपनी दोस्ती गवा बैठते हो तथा आप की मुश्कल में साथ देने वाला कोई नहीं होता |

आप अपनी साडी ऊर्जा गुसे  में , नफरत में व अविश्वास में ख़राब करते  हो क्योकि आप को ईर्ष्या की बीमारी है |  पर आप को मानना  होगा कि  हम इस धरती पर रहते है | हम एक दूसरे के ऊपर निर्भर है |  इस लिए जितना ज्यादा आप दुसरो की सफलता से ईर्ष्या व द्वेष करोगे उतना ही आप असफल होते जाओगे व आप अपने शरीर को बीमारिओ का घर बना लो गे  |

ईर्ष्या की वजह से आप दुसरो की जिंदगी में भी जहर घोलते हो | जैसे पत्नी अपनी सेहली के पति   की तरक्की  से जले तो | वो आपने पति  को भय दिखाना शुरू कर सकती है | यदि तुम मुझे वो न लेकर दोगे  जो मेरी सहेली के पति  दिया है तो मैं आत्म हत्या कर लुंगी |  स्त्रियाँ  खास कर भावनात्मक रूप से ईर्ष्या करती है | इस लिए उन्हें भी इसे  अपने नियंत्रण में रखने की आवश्यकता है |


तो आये  अब हम सीखते है कैसे ईर्ष्या रूपी दानव से छुटकारा पाया जा सकता है |



पहला कदम : ईर्ष्या से छुटकारा पाने के लिए आप रोज अपना आत्म  विश्वास बढ़ाये

 आप ने अपनी पर्सनालिटी इम्प्रूव करनी है | ऐसा हो सकता है | कौन सा ऐसा व्यक्ति है जो मां  के पेट से बाहर आया बहुत बड़ा सिंगर था बहुत बड़ा डांसर था हैंडसम था जिस को गॉड ने गिफ्ट दे दिया जमते ही कि स्विमिंग आएगा | ऐसा कोई भी नहीं है | हर कोई ट्रेनिंग लेता है | ऐसे ही आप आत्म विश्वास की ट्रेनिंग लेना स्टार्ट कर दो | वो कहा से स्टार्ट होगी वो मैं बताता हूँ |

आप कभी न सोचे उस के पास जो है वो आप के पास नहीं |

उदाहरण के तोर पर आप एक एक्टर को देखते हो मैं उस जैसा नहीं हूँ | मेरी एक्टिंग फेल है | ऐसा नहीं है आप ने कभी सोचना नहीं है | कि उसके पास जो है मेरे पास नहीं है | जब ऊपर वाले ने हमे बनाया था क्या दुखी होने के लिए बनाया था | क्या निचा दिखने के लिए बनाया था |

 उस ने बहुत कुछ दिया है सिर्फ सोचें |


सोच कैसे आएगी  | मैं सोचता हूँ आप भी वैसा सोचे | आप का भी आतम विश्वास बढ़ जायेगा | उस परमात्मा ने जब हमे पैदा किया था उस समय अंधेरा था उसको हटाने के लिए उसने सूरज दिया, चाँद दिया , ग्रह दिए | इस से भी ज्यादा परमात्मा ने आँखों की रौशनी दी | आंखे अंधी हो जाएगी यदि हमारे दिमाग से रौशनी नहीं आएगी उस रौशनी को देखने के लिए | वो रौशनी भी भगवन ने दी | वर्ण मैं तो अँधा हु | ईर्ष्या का सवाल ही नहीं है | तो याद रखे - परमात्मा ने सूरज, चाँद , ग्रह , आँखों की रौशनी हमें अँधेरे से छुड़ा कर उजाले में लेन के लिए दी | देख स्कू यह सही है या गलत है |  वरना रस्ते में एक पथर होगा व्ही निचे गिर जाउगा | उस देने वाले ने बहुत कुछ दिया है | इस चीज को लिख कर याद कर ले | इस से आतम विश्वास बढ़ जाता है |

अब दूसरी बात :- मुझे अज्ञान था क्या परमात्मा ने आप के अज्ञान को दूर करने के लिए बुद्धि नहीं दी | उसने पैसा कमाया | उसने तरक्की  की | उससे सफलता प्राप्त की | उसके पास बहुत बुद्धि है | यह कहना गलत है | भगवन ने आप को भी उतनी बुद्धि  दी है |  याद रखे दुनिया में सब का आई क्यू बराबर है | कई इस का प्रयोग करते है | वो और ज्यादा हो जाता है | जो बुद्धि का प्रयोग नहीं करते उनकी बुद्धि बल कम हो जाता है |

पांच ज्ञान इन्द्रिय व पांच कर्म इन्द्रिय यह जुबान इसके उसे से मैं अपने मन का ज्ञान आप को बता सकता हूँ | यह किस ने दिया | यह भी उसी ने दिया | एक फेमस सिंगर के पास भी व्ही जुबान और मेरे पास भी व्ही जुबान | एक अच्छा सिंगर हमेशा इसकी प्रैक्टिस करता है |  अगर मैं भी प्रैक्टिस करु तो मैं भी अच्छा सिंगूर हो सकता हूँ | बहुत सारे  लोगों को लेक्चर देना नहीं आता | २००८ में मैंने फर्स्ट यूट्यूब वीडियो डाला था | तो धीरे धीरे प्रैक्टिस करते करते जब दो हजार वीडियो हो गए तो बोलने की आदत लग गयी | उससे मेरा आत्म विश्वास बढ़ गया आप भी ऐसा कर सकते हो | उस परमात्मा ने पांच ज्ञान इन्द्रिय व पांच कर्मइन्द्रिय आप को सफल होने के लिए दिए है |  इसके इलावा आप को एक मन भी दे दिया | जितनी मर्जी आप इमेजिनेशन कर  लो उसके हिसाब से अपनी जिंदगी बदल लो | इसके इलावा बॉडी में एक नर्वस सिस्टम है यह ब्रेन से शुरू होता है तथा पैरों तक जाता है | यह भी उसने दिया क्यों दिया क्योकि वो आप को तरक्की  में देखना चाहता है | क्योकि उसके सभी बेटे व बच्चे बराबर है | वो चाहता है के आप जीवन में ईर्ष्या न करे व अपने लक्ष्य को प्राप्त करे | परमात्मा ने इतनी सारी  चीजे दे दी | जिस भावना में आप बह रहे हो उस भावना को बनाने वाला मन भी परमात्मा का दिया हुआ है आप नेगेटिव फीलिंग व पॉजिटिव फीलिंग को बंद करे व आप को पीछे सिर्फ मन मिलेगा जो गॉड गिफ्ट है |


परमत्मा ने हमे हमारा शरीर दिया | इसकी सेहत कायम रखने के लिए बनस्पति दी | खाने का इतना सामान दिया |  याद रखे कहि पैसा दरख्त पर नहीं लगता | जमीन से फल निकलते है | सबको बराबर दिए | यह जितने भी देश है क्या ऊपर वाले ने बनाया था | यह हमने दीवारे बनाई | यह पाकिस्तान क्या हम ने बनाया | यह उन्होंने बनाया जिन्हो की सोच गलत थी | सब बराबर है | पाकिस्तान , इंडिया , चीन , ऑस्ट्रेलिया | आज भारत व अमेरिका अलग अलग देश है | एक दिन बहुत अच्छे लोग इस दुनिया में आएंगे व यह एक हो जायेगे | ऐसा हो सकता है | क्योकि वो चाहता है | के आप सब उसके बच्चे खुश रहे |  और आप ईर्ष्या में अपने आप को दुखी बना रहे हो | अपने आत्म विश्वास को कम कर  रहे हो व डर को बड़ा रहे हो |

क्या परमात्मा ने धरती सबके लिए नहीं दी | क्या उसने खाने का आप को सामान नहीं दिया | क्या उसने आप को धन बनाने के साधन नहीं दिए |  सबसे बड़ी नियामत पानी आप को दिया जिस से बिजली बनती है व फॅक्टरीस चलती है | आप के घर में यदि सोलर प्लांट है तो वो भी सूरज से ही ऊर्जा प्राप्त करता है व आप को फ्री बिजली देता है |  जब यह क्लोथ्स पुराने हो जायेगे  तो मृतयु रूपी वरदान भी दिया | इसके अंदर एक आत्मा है | उसकी अमरता का वरदान भी दिया |  तो सबकुछ है पास |

अब धीरे धीरे आप ने आत्म विश्वास को सीखना है | आप का फोकस  सक्सेस की तरफ होना चाहिए | आप ने जो भी चीज है धीरे धीरे सीखनी है | यदि आप किसी  भी फील्ड में कोई सफल वियक्ति देखते हो तो | उसके आत्म विश्वास को देखे  |वह कैसे सफल बना | उसके कुछ कदम होंगे | उसे कॉपी पर नॉट  करे | उन कदमों पर अपना कर्म करे | आप देखोगे के आप भी उन जैसे सफल हो रहे हो | आप में आत्म विश्वास बढ़ रहा है |  एक व्यक्ति अपने भाई को देख रहा है जब वह १७ साल का था | उसके भाई का कद बढ़ गया अब व् वः उसको ही देखता रहता है व हमेशा कहता है उसका कद क्यों नहीं बढ़ रहा | अभी वो २७ का हो गया है अगर वो अपना फोकस एक्शन की तरफ क्र लेता तो कब का उसका कद बढ़ गया होता | हर चीज में चाहे हेल्थ का एरिया हो , फाइनेंस का एरिया हो, सेल्स का एरिया हो ईर्ष्या आप को निचे गिराएगी |मान  लो आप से नहीं कर  रहे वो बुक है न दुनिया का महँ सेल्समेन वो पड़े |  उन ग्रेट पर्सनालिटी के बुक को स्टडी कीजिये | आप में वो स्किल आ जाएगी | मैंने तो उसके ऊपर बहुत एक्सपेरीमेंट किया | उसने जो कहा वो मैंने बोला |  आप भी बोलिये व आप में एक सेल्समेन पैदा हो जायेगा |

हर चीज का आप के पास इनपुट है | बस  आप रोज कुछ समय निकले व इसके ऊपर वर्कऑउट करे | यह कभी मत सोचिये आप के पास वो नहीं है जो दूसरे के पास है | सब कुछ हमारे पास है | मैं तो यह हमेशा सोचता हूँ भगवन ने बहुत कुछ दिया है बहुत कुछ दिया है | यह सोचने का टाइम ही नहीं है के दूसरे के पास कुछ भी है | सब कुछ मुझे ही दिया है |


दूसरा कदम : हर महीने पैसे बचाये 


अगर आप का मन जलता है कि दूसरे के पास बंगला है , कार है आप के पास क्यों नहीं है | दूसरा तो मौज मजे कर रहा व मेरे पास धन नहीं है | क्या आप ने सोचा के क्या मैं हर मैंने जो पैसा अत है उसमें से कितना सेव करता हु | जवाब मिलेगा न के बराबर |  जब आप के पास पैसे आते है तो आप लुटाने लग जाते हो | जब पैसे कमाते हो तो वो बहुत कम होते है पर जब आप उसे अपनी बचत खाते में रख लेते हो तो वो पैसा बहुत बढ़ जाता है जिसे आप इन्वेस्ट कर सकते हो |  तथा आप वो खरीद सकते हो जो उसके पास है पर आप के पास नहीं है | उसके पास कार है आप नहीं ले सकते | उसके पास बांग्ला है आप नहीं ले सकते | पर उसके पास यदि सेविंग की हैबिट है आप नहीं लेते उसकी यह अच्छी आदत | जितने भी आमिर व्यक्ति हुए है उनकी यदि आप जीवनी पड़ेगे तो आप पाएंगे के वे सभी बचत की अच्छी आदत से आमिर बने | उन्हें बचत की आदत नशे की तरह थी | भारत में में कितने सरकारी बैंक है , कितने डाकखाने है आप अपना पैसा उसमें डालिये | आज कल बैंक वाले भी एक गन्दी आदत सिप डालो भाई सिप डालो | व शेयर मार्किट में अपना पैसा बचाओ | जो पैसा बचाना नहीं पैसे का जुआ खेलना है | तो आप अपनी खून पसीने की कमाई यह न लगाए | सेविंग का मतलब आप की सेफ्टी के लिए आप जब काम नहीं कर सकोगे तब आप को यह पैसा सपोर्ट करेगा | शेयर व म्यूच्यूअल मार्किट में पैसा डूब भी सकता है |


आप अपने बिज़नेस में लगाए | जो भी आप की सेविंग है उसे इन्वेस्ट कीजिये अपने व्यापार में |


तीसरा कदम : आप अपने जीवन के लक्ष्यों को कागज पर लिखे 

यह लक्ष्य आप को बतायेगे कि आप ने जीवन में क्या करना है | आप अपने जीवन का २० साल का गोआल, १० साल का गोआल , ५ साल का गोआल , १ साल का गोआल, ६ महीने का गोआल, १ महीने का गोआल, १ हफ्ते का गोआल कॉपी पर लिख ले | हर रोज अपने जीवन का लक्ष्य लिखे उसके अनुसार काम करे | इससे आप लक्ष्यों को प्राप्त करेंगे व उनको फिर अपनी सफलता नोटबुक में लिखे | इसतरह आप को अपनी चनौतियों का पता लगेगा व आप दुसरो की सफलताओं से चिरड़ना बंद कर दो गे

मान लीजिए एक आदमी देखते हो वो हैंडसम है | उसके अच्छे मसल्स है | वो आप भी हो सकते हो | आप के भी मसल्स हो सकते है बस आप को भी उसी तरह अपना डेली वर्कआउट gym  में करना होगा जैसे वो करता है | अपनी मसल्स बनाने का आप को गोआल सेट करना चाहिए | आप को दुसरो को देख कर जलना नहीं चाहिए |

आप अपना दिन गपे मरने में ख़तम कर देते हो | उसका हम सुधर करने के लिए अपने डेली लक्ष्य बनाने है | आप ने नाम सुना होगा अटल पेंशन योजना | यह २० साल का कम से कम सेविंग गोआल है जिस से लाइफ टाइम पेंशन मिलता है |  आप ने इसमें हर महीने ६० साल की उम्र में मिलने वाली पेंशन के हिसाब से सेविंग करनी होती है | आप अपनी लाइफ के भी लम्भे समय के लिए छाए वो एकाउंटिंग का एरिया हो फाइनेंस का एरिया हो , कंस्ट्रक्शन का एरिया हो | सब में आप अपने गोल सेट करे | आप चीफ मैनेजर बनाना चाहते हो आप बन सकते हो | बस आप के पास इसका गोल हो | यदि आप ज्यादा ऐज के हो तो आप कम ऐज के लगने लग जाओ | सिर्फ हेल्थ के नेचुरल रूल्स फोल्ल्वो करने से | यह संभव है यदि आप ने गोल सेट किया है | यदि आप के पास गोल नहीं है तो आप बना गोल जीवन जी दो गे जिसका कोई लाभ नहीं होगा | व जीनोने गोआल सेट किया व सक्सेस प्राप्त किया उनसे जलने लग जाओगे |


तीसरा कदम : अपने सबंन्धों में सुधर लाये 

आप के बहुत सारे रिश्ते दर हो सकते है आप को उनसे जलना नहीं है आप को तो उनके रिश्तोंमें मिठास लानी है | आप ने देखना है के कैसे आप उनकी मदद कर  सकते हो | अगर आप का भाई तरक्की कर रहा है तो उसे और प्रोत्साहित करे न के जले | आप उन पर विश्वास रखोगे तो वो आप पर विश्वास रखेंगे | इस तरह आप दोने आगे जा सकते हो एक दूसरे के सहयोग से |


चौथा कदम : आप को अपने आप को दूसरे से तुलना न करे 

हमेशा ही आप को अपने आप को अपने आप से तुलना करनी है न की अपनी तुलना दुसरो से करनी है | यदि कोई दूसरा आप से ज्यादा तरक्की  कर  गया तो आप देखे कि उसने तरक्की कैसे की आप को उससे प्रेरणा लेनी चाहिए   तभी आप आगे बढ़ सकोगे | आप अपना सुधार कर सकते हो सिर्फ अपने पास्ट की तुलना अपने वर्तमान से कर के व आगे बढ़ सकते हो |

पांचवा कदम : बेसहारा लोगों की मदद करे 


अपने भावनाओं को बदला जा सकता है जब भी आप में ईर्ष्या के विचार आये आप को बेसहारा लोग की सेवा का काम शुरू कर देना चाहिए | जिन के पास पैसे कमाने की योग्यता नहीं उसे आप ज्ञान दे सकते हो | जिस के पास भोजन नहीं आप उसे भोजन दे सकते हो | मदद करने से आप में संतुष्टि की भावना का प्रवाह  होता है जिस से आप को ख़ुशी व शांति मिलेगी व रात  को अच्छी नींद आएगी |


संबंधित सामग्री


  1. खुद को भावनात्मक दोषी के विचारों को कैसे खत्म करें 
  2.  शीर्ष भय जो मरीजों को नहीं पता होता 
  3. नकारात्मक भावनाओं को कैसे नियंत्रित करे ? 
  4. क्रोध को कैसे नियंत्रित करें - डॉ विनोद कुमार 

भाषा 




Comments

Latest Contents in Hindi

Latest Health Education Contents in English

Popular posts from this blog

पेट के वायु गोला का उपचार

चिंता मुक्त होने के लिए 10 कानून