$show=home

स्वामी दयानंद प्राकृतिक चिकित्सालय  में आपका स्वागत है

इस चिकित्सालय  के संस्थापक डॉ. विनोद कुमार ने रोगियों की सहायता के लिए 500+ बिमारियों की चिकित्सा सबंधी ज्ञान दिया | 

अपना सीखना शुरू करें


/fa-fire/ LATEST Contents$type=three$m=0$cate=0$sn=0$rm=0$c=6$va=0$show=home

Andkosh ki naso me sujan CKD fever Forgive god Height Kaise Bdau HIV Ka Phobia hydrocele ka elaj IBS nabhi khiskna Natural Antibotic overy cyst preshno ke utar running surgeon Varicocele अग्न्याशय अधिक वजन अपेंडिसिटिस अम्बिलिकल हर्निया आत्म विश्वास आनंद आसन आहार योजना इंसान ईर्ष्या प्रबंधन उदरशूल ऊंचाई ऊँचाई बढ़ाएँ ऊँचाई वृद्धि कत्था कब्ज कृतज्ञता कैंसर कोविड -19 का प्राकृतिक इलाज क्रोध प्रबंधन ख़ुशी गंजापन गीत चमड़ी रोग चर्मरोग चिकित्सा शब्दकोश चोट छोड़ने योग्य भोजन जलवृषण तिल्ली का इलाज दवा दांतों के रोग दिमाग की शक्ति दिव्य दृष्टि ध्यान निदान पाचन शक्ति पित्ताशय की पथरी पेट की बीमारियां प्राकृतिक इलाज प्राकृतिक खाद्य पदार्थ प्राकृतिक चिकित्सा प्राकृतिक चिकित्सा उपचार प्राकृतिक चिकित्सा की टेक्निक्स प्राणायाम प्रोस्टैटिटिस प्लीहा प्लीहा रोग फलों की सूची बवासीर बालों के रोग बुखार ब्रह्मचर्य ब्रह्मचारी गीत ब्रह्मज्ञान भय भावनाएँ भावनाये मनोरोग चिकित्सा महिला प्राकृतिक चिकित्सा मांस कभी न खाएं मांसाहार मिट्टी थेरेपी मुर्ख व्यक्ति यात्रा योग राममूर्ति दंड रोग प्रतिरोधक क्षमता लत पर काबू पाए लालच लीवर सिरोसिस वंक्षण हर्निया वजन बढ़ाएं वयायाम योजना विनम्रता वैरीकोसेल व्यक्ति का चरित्र व्यक्तित्व विकास व्यायाम सकारात्मक भावनाएं संक्रामक रोग संन्यास सब्जियों सर्जरी के बिना इलाज सांस की बीमारियों सुबह सेहत स्मोकिंग स्वामी दयानंद प्राकृतिक चिकित्सा स्वास्थ्य स्वास्थ्य के लिए व्यायाम स्वास्थ्य शब्दकोश स्वास्थ्य सुझाव हर्निया हाइटल हर्निया हाइड्रोसील हृदय रोग

/fa-fire/ हर्निया चिकित्सा $type=three$m=0$cate=0$sn=0$rm=0$c=6$va=0$show=home

/fa-fire/ पित्त की पथरी चिकित्सा $type=three$m=0$cate=0$sn=0$rm=0$c=3$va=0$show=home

/fa-fire/स्त्री रोग चिकित्सा $type=three$m=0$cate=0$sn=0$rm=0$c=6$va=0$show=home

$show=home

ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ८

"ब्रह्मचर्य के १०० लाभ" के भाग ८ का स्वागत है। पहला  भाग १भाग २, भाग ३, भाग ४भाग ५ , भाग 6 और भाग 7 पढ़ें। आओ अब ८वा भाग में सीखते है | 

ब्रह्मचर्य का 36वाँ लाभ : आंतरिक असुर वासना, क्रोध और लोभ के विरुद्ध ढाल

क्या आपने संग्रहालय में देखा कि वहाँ बहुत सारी ढालें ​​​​हैं। इन कवचों का प्रयोग शत्रुओं के आक्रमणों से रक्षा के लिए किया जाता था। इस ढाल में सेना के लिए बहुत मजबूत लोहे के कपड़े हैं और तलवार के हमले से बचाने के लिए हाथ में ढाल भी है।

सबसे बड़े शत्रु और राक्षस मन में रहते हैं और कभी भी मन पर आक्रमण कर उसे कमजोर कर देते हैं।

इसका नाम है काम, क्रोध और लोभ।

कठोर ब्रह्मचर्य का पालन करके ही आप इसके आक्रमण से बच सकते हैं।

गीता कहती हैं


त्रिविधं नरकसयेदँ  द्वारं नाशनमात्मनः।
कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्रयं त्यजेत।


तीन दरवाजे हैं जो आपको नरक में ले जाते हैं। जिनका नाम काम, क्रोध और लोभ है। अगर आप अच्छे इंसान हैं तो आपको इसे छोड़ना ही होगा।

ब्रह्मचर्य से आपने अपनी कामवासना को जीत लिया है। इसी के साथ आप कोई भी कार्य करने से पहले सोचेंगे और अगर वासना का दानव 1 लाख बार हमला करता है तो वह आप पर विफल हो जाएगा। वह आपके मोबाइल एप के विज्ञापन के माध्यम से वासना दिखाना चाहता था लेकिन आपने वासना फैलाने वाले सभी ऐप्स को हटा दिया है। कामुक महिला को ऑफलाइन दिखाने के लिए यह आप पर हमला करेगा। लेकिन देखते ही देखते ब्रह्मचारी ने आंखें बंद कर लीं और मन में बोल उठे। वो मेरी माँ है। मैं उनमें देवी मां को देख रहा हूं और उस पर कामवासना का हमला विफल हो जाता है। ब्रह्मचारी पर सभी हमले विफल हो जाएंगे। आखिरी हमला पत्नी के जरिए हो सकता है। इस समय ब्रह्मचारी को बुद्ध के समान वैराग्य हो जाता है  और आत्म साक्षात्कार होता है 

क्योंकि ब्रह्मचारी हमेशा आध्यात्मिक और पवित्र पुस्तकों को पढ़ते है  और ज्ञान प्राप्त करते है    और उन्हें क्रोध जीतने के लिए महान खजाना मिला है  । 

वह जानता है, क्रोध शांति से जीत सकते है और शांति स्वयं की इच्छा और मन को शिक्षित करने पर आती है। 

प्रिय मन, सब से प्रेम, आदर, नम्रता से बात करनी है।

यदि वह दूसरे पर क्रोध करने की इच्छा नहीं रखता है। कोई उसे नाराज न करे।

लालची दानव भी सिद्ध ब्रह्मचारी पर आक्रमण नहीं कर सकता क्योंकि ब्रह्मचारी ने उससे कभी भी वासना का लोभ  करना नहीं सीखा । वह जानता भगवान ने उसे अंदरूनी शक्ति के रूप में बहुत कुछ दिया है । इसलिए, वह कभी भी पैसे के लिए नहीं   भागता व पैसों का लालची  बनता | बल्कि मेहनत करके उस पैसों को ईमानदारी से कमाता है  वह सात्विक भोजन का आनंद लेता है और भगवान को याद करता है और संतुष्ट महसूस करता है।

ब्रह्मचारी याद करते हैं

पिछली हुई बातों पर गुस्सा जरूर आएगा और मेरे योग्य वर्तमान समय को खाओगे।

लालच मेरे भविष्य की अच्छी योजनाओं पर प्रभाव डालेगा और भविष्य की चिंता के माध्यम से मेरे योग्य समय को खा जाएगा।

वासना वर्तमान समय पर होगी और मेरा पूरा वर्तमान समय बर्बाद कर देगी।

इसलिए, मुझे ब्रह्मचर्य पर ध्यान देना है और यह काम, क्रोध और लोभ की रक्षा करने वाली मेरी ढाल है।

ब्रह्मचर्य का 37 वां लाभ: कुंडलिनी शक्ति को जगाने में मदद

ब्रह्मचर्य कुंडलिनी को जगाने में मदद करता है। जब योगी, पहले ३६५  दिन तक ब्रह्मचर्य का पालन करें और अपने शरीर से वीर्य की एक बूंद या शरीर से रज कभी न निकालें। वह कुंडलिनी शक्ति को जगाने में सक्षम हो जाता है।

प्रक्रिया बहुत सरल है

सख्त स्थिति = 365 दिन कुल ब्रह्मचर्य

यह बहुत कठिन है क्योंकि पानी का प्राकृतिक व्यवहार नीचे जाना और वीर्य और राज द्रव रूप में है और इस पानी के प्राकृतिक व्यवहार का पालन करते वासना आप को पानी की तरह निचे खींचती है  , अब अगर पानी ऊपर भेजने की जरूरत है, तो हमें कड़ी मेहनत करनी होगी, या तो पानी को बर्तन में लें और इसे पहली मंजिल ले जाओ। हाँ, ऐसे ही हमें इसे दृढ़ता से मस्तिष्क में लाने के लिए और वासना के सभी हमलों से बचने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

अगला प्राणायाम और ओम के ध्यान पर जाएं

अब, आपकी कुंडलिनी शक्ति खुल जाएगी। इसके बाद नीचे से 8 चक्र शुरू होकर दिमाग में जाते हैं

मूलाधार चक्र आपकी रीढ़ की हड्डी  के अंतिम बिंदु के पास खुलता है।

सरल शब्दों में, कुडिलिनी शक्ति के जाग्रत होने से प्राण ऊर्जा का उत्थान होता है। इससे आप ईश्वर को जान सकते हैं, ईश्वर से जुड़ सकते हैं और आत्मा की शक्ति को महसूस कर उसका उपयोग कर सकते हैं।

यह कुडिलिनी शक्ति सर्प के समान उत्थान करती है।

सर्प के चलने से इसमें सर्प के गुण होते हैं जैसे आँखों पर साँप का आवरण नहीं होता, कामवासना पर विजय पाने वाला योगी कभी आलसी नहीं होता। सांप के पास जहर की थैली होती है और वह अपने दुश्मन को देता है। इसमें जहर भी है लेकिन यह इसकी शक्ति है। शत्रु पर आक्रमण करने से साँप खतरे से सुरक्षित रहता है और दूसरा अपने शिकार पर विष का प्रहार करके भोजन करता है। इसी प्रकार सिद्धयोगी को शक्ति प्राप्त होती है, उसके शत्रु काम, क्रोध और लोभ का भय सिद्धयोगी  से  होता है। और इसकी शक्ति दुश्मन से बिना किसी डर के मस्तिष्क तक उत्थान और उत्थान करती है। सांप कई दिनों तक बिना भोजन के रह सकता है क्योंकि पर्यावरण में बदलाव के कारण उसका तापमान बदल जाता है। इसलिए कम पर भी रह सकता है  । योगी जब समाधि जाते हैं, तो उन्हें अधिक भोजन की आवश्यकता नहीं होती है। छोटा सा सात्विक भोजन ही काफी है।

ब्रह्मचर्य का 38वां लाभ : अच्छे स्वास्थ्य और फिटनेस का रहस्य

ब्रह्मचर्य अच्छे स्वास्थ्य और फिटनेस का रहस्य है क्योंकि ब्रह्मचर्य के साथ विराग्य दिमाग में आता है। पूरे मन की पवित्रता के साथ। शरीर स्वतः शुद्ध होने लगता है। क्योंकि मन ही वास्तविक व्यक्ति है और उसकी छाया हमारा शरीर है। मन शुद्ध है तो शरीर शुद्ध और विष मुक्त है। मन अशुद्ध हो तो वीर्य को कोई नहीं बचा सकता और वीर्य के बिना शरीर कमजोर होने लगता है और उसी कमजोर शरीर में रोग घर कर जाते हैं।

ब्रह्मचर्य का आचरण पवित्र गाय के समान है। पवित्र गाय हरी घास खाती है लेकिन अमृत दूध देती है। उसी प्रकार यदि ब्रह्मचारी छोटा और सादा भोजन कर अपने वीर्य की रक्षा करता है तो वह अमृत में परिवर्तित हो जाता है और जब  शरीर उसी अमृत का सेवन करता है तो पूरा शरीर अमृत का स्रोत बनने लगता है और वह पूरी तरह से स्वस्थ और फिट हो जाता है।

तो, अच्छी किताबों से, सत्संग द्वारा शुद्ध कल्पनाओं से मन को शुद्ध करना शुरू करें कि अन्य महिलाएं मेरी मां, बहन और बेटियां हैं।

ब्रह्मचर्य का 39वां लाभ : मन की शांति 

ब्रह्मचर्य का पालन करने से मन को जीवन से पूर्ण संतुष्टि का अनुभव होता है।

1. यह कभी बोरियत महसूस नहीं करता

2. मन में कोई चिंता नहीं आती

3. जब व्यक्ति विचारों, कार्यों और शब्दों में शुद्ध होता है, तो परिणाम शुद्ध आता है और मन शुद्ध परिणामों से संतुष्ट होता है और आराम महसूस करता है और रात को अच्छी नींद लेता है।

4. मन की शांति न होने का एक बड़ा कारण भौतिक चीजों से लगाव है। मन हमेशा बेचैन रहता है, भौतिक वस्तुओं के पीछे भागता है और उन्हें सुरक्षित रखने के लिए तनाव लेता है। इसका मूल है सेक्स की इच्छा। लाखों ब्यूटी प्रोडक्ट्स हैं इसका सबूत। चेहरे पर सौंदर्य उत्पाद डालने के बाद वे युवा और आकर्षक बनना चाहते हैं लेकिन ब्रह्मचर्य के बिना कोई परिणाम नहीं आएगा क्योंकि जब एक ही ऊर्जा की बर्बादी होगी, तो शरीर में खजाने की कमी के कारण मन परेशान होगा। उसे रात में ठीक से नींद नहीं आती थी और मन को शांति नहीं मिलती थी और शरीर कमजोर होने लगता था और कमजोर शरीर रोगों से लड़ने में असमर्थ हो जाता था। लेकिन अच्छी बात यह है कि जो लोग ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं, ऐसा नहीं होता।

5. जब कोई व्यक्ति भगवान को खोजने के लिए आगे बढ़ता है, हर जगह जहां वह थक जाता है और आराम करता है, उसे स्कुन प्राप्त करें।

6. जब हम भगवान को ढूंढ कर उनसे मिलें तो यह बहुत खुशी की बात होगी। यह स्थायी सुख होगा। स्थायी सुख प्राप्त करने के बाद मन को वास्तविक शांति का अनुभव होता है। अन्य सुख जो वासना से आते हैं, वे कुछ ही सेकंड हैं और हम गुलाम हैं और हम दौड़ते-भागते हैं अर्थात अधिक से अधिक ऊर्जा बर्बाद करना और कुछ सेकंड का आनंद लेना। मन अंत में अपनी ऊर्जा के इस नुकसान से पूरी तरह से असंतुष्ट महसूस करता है और उसके दिमाग में आत्महत्या के विचार आते हैं लेकिन जब मनुष्य भगवान की ओर छोटा सा कदम भी चलता है, तो बड़ी खुशी आती है और यही भारतीय संतों और  महापुरष  के चेहरे पर यह शांति देखी जा सकती है 

7. ब्रह्मचारी के लिए अपनी इंद्रियों को अंदर की तरफ वापस लेना और भगवान पर ध्यान केंद्रित करना आसान है। इन्द्रिय-ऊर्जा के कम उपभोग से उसकी शक्ति बढ़ती है और उसके आध्यात्मिक जीवन का विकास होता है।

ब्रह्मचर्य का 40वां लाभ : एकाग्रता की शक्ति बढ़ाएं

ब्रह्मचर्य आपकी एकाग्रता शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है। जीवन में किसी भी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने के लिए, आपको सभी विकर्षणों को दूर करने की आवश्यकता है। मन सबसे बड़ी व्याकुलता है। मन में सेक्स की इच्छा सबसे बड़ी व्याकुलता है। आप भी बूढ़े हो गए, लेकिन आपकी सेक्स की इच्छा कभी नहीं रुकती क्योंकि यह लत है और आपके पूरे जीवन को अस्त-व्यस्त कर देती है और जीवन में कभी बड़ी उपलब्धि हासिल नहीं हो सकती आप को इस लत से |  जीवन में  बड़ा हासिल करना है तो आप जीवन में बड़ी चीजों पर ध्यान देना शुरू करे । यदि आपने इसे पहले जीत लिया है, तो आप किसी भी चीज को कई घंटों तक केंद्रित कर सकते हैं क्योंकि मन आपको परेशान नहीं कर रहा है, बल्कि उस क्षेत्र के लिए अपनी ऊर्जा देकर आपकी मदद कर रहा है जहां आप ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

तप: सु सर्वश्यू एकाग्रता परमं तप: 


सभी तपों में से एकाग्रता सबसे बड़ा तप है 

तो पहले आपको ब्रह्मचर्य पालन पर ध्यान देना होगा क्योंकि जब पूर्ण एकाग्रता के साथ आप ठोस हो जाएंगे, तो आपको किसी भी चीज़ में ध्यान केंद्रित करने की शक्ति मिलती है क्योंकि काम से भरे हुए व्यक्ति, क्रोध से भरे हुए व्यक्ति कभी भी किसी भी चीज़ पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं।

एकाग्रता के लिए मन की शांति  आवश्यकता होती है जो ब्रह्मचर्य से आती है जिसे हमने ऊपर लाभ में बताया है।

Read it in English 

Name

Andkosh ki naso me sujan,2,CKD,1,fever,1,Forgive,1,god,1,Height Kaise Bdau,2,HIV Ka Phobia,1,hydrocele ka elaj,1,IBS,1,nabhi khiskna,1,Natural Antibotic,1,overy cyst,2,preshno ke utar,5,running,1,surgeon,1,Varicocele,1,अग्न्याशय,1,अधिक वजन,1,अपेंडिसिटिस,1,अम्बिलिकल हर्निया,1,आत्म विश्वास,3,आनंद,1,आसन,2,आहार योजना,8,इंसान,1,ईर्ष्या प्रबंधन,1,उदरशूल,1,ऊंचाई,1,ऊँचाई बढ़ाएँ,5,ऊँचाई वृद्धि,5,कत्था,1,कब्ज,1,कृतज्ञता,2,कैंसर,1,कोविड -19 का प्राकृतिक इलाज,1,क्रोध प्रबंधन,5,ख़ुशी,4,गंजापन,1,गीत,2,चमड़ी रोग,1,चर्मरोग,1,चिकित्सा शब्दकोश,1,चोट,1,छोड़ने योग्य भोजन,1,जलवृषण,1,तिल्ली का इलाज,3,दवा,1,दांतों के रोग,1,दिमाग की शक्ति,1,दिव्य दृष्टि,1,ध्यान,1,निदान,1,पाचन शक्ति,1,पित्ताशय की पथरी,4,पेट की बीमारियां,8,प्राकृतिक इलाज,10,प्राकृतिक खाद्य पदार्थ,2,प्राकृतिक चिकित्सा,1,प्राकृतिक चिकित्सा उपचार,7,प्राकृतिक चिकित्सा की टेक्निक्स,1,प्राणायाम,1,प्रोस्टैटिटिस,1,प्लीहा,1,प्लीहा रोग,1,फलों की सूची,1,बवासीर,1,बालों के रोग,1,बुखार,1,ब्रह्मचर्य,23,ब्रह्मचारी गीत,1,ब्रह्मज्ञान,1,भय,2,भावनाएँ,1,भावनाये,1,मनोरोग चिकित्सा,2,महिला प्राकृतिक चिकित्सा,3,मांस कभी न खाएं,1,मांसाहार,1,मिट्टी थेरेपी,1,मुर्ख व्यक्ति,1,यात्रा,1,योग,7,राममूर्ति दंड,1,रोग प्रतिरोधक क्षमता,1,लत पर काबू पाए,3,लालच,1,लीवर सिरोसिस,1,वंक्षण हर्निया,1,वजन बढ़ाएं,3,वयायाम योजना,1,विनम्रता,1,वैरीकोसेल,1,व्यक्ति का चरित्र,1,व्यक्तित्व विकास,1,व्यायाम,7,सकारात्मक भावनाएं,1,संक्रामक रोग,2,संन्यास,1,सब्जियों,1,सर्जरी के बिना इलाज,2,सांस की बीमारियों,1,सुबह,1,सेहत,2,स्मोकिंग,1,स्वामी दयानंद प्राकृतिक चिकित्सा,1,स्वास्थ्य,21,स्वास्थ्य के लिए व्यायाम,2,स्वास्थ्य शब्दकोश,1,स्वास्थ्य सुझाव,2,हर्निया,8,हाइटल हर्निया,1,हाइड्रोसील,1,हृदय रोग,1,
ltr
item
स्वामी दयानंद प्राकृतिक चिकित्सालय: ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ८
ब्रह्मचर्य के १०० लाभ - भाग ८
https://1.bp.blogspot.com/-41oWHor5xco/YMCd7RGN59I/AAAAAAAAAcc/imHNbSSFfyY6HxFft0vHbnrT5oPyAEpFwCLcBGAsYHQ/w536-h328/brahmcharya.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-41oWHor5xco/YMCd7RGN59I/AAAAAAAAAcc/imHNbSSFfyY6HxFft0vHbnrT5oPyAEpFwCLcBGAsYHQ/s72-w536-c-h328/brahmcharya.jpg
स्वामी दयानंद प्राकृतिक चिकित्सालय
https://hi.sdnhospital.com/2021/06/100-benefits-of-brahmacharya-in-hindi-part-8.html
https://hi.sdnhospital.com/
https://hi.sdnhospital.com/
https://hi.sdnhospital.com/2021/06/100-benefits-of-brahmacharya-in-hindi-part-8.html
true
282177341345285430
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Reply Cancel reply Delete By Home PAGES Contents View All RELATED CONTENTS FOR YOUR LEARNING Topic ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy